पर्यटन नगरी नैनीताल को जल्द मिलेगी अत्याधुनिक पार्किंग, जगह भी हुई तय

पर्यटक नगरी नैनीताल में वीकेन्ड तथा पर्यटक सीजन के दौरान वाहनों की पार्किंग के दबाव को कम करने के लिये आधुनिकतम विशाल पार्किंग की आवश्यकता को महसूस किया गया है। व्यवस्थित पार्किंग स्थल बनाये जाने के लिए युवा आयुक्त डी. सैंथिल पाण्डियन ने पार्किंग की दूरगामी व्यवस्था पर काम करना शुरू कर दिया गया है। पार्किंग को लेकर जिलाधिकारी दीपक रावत द्वारा भी विशेष सराहनीय प्रयास किये जा रहे है।
आयुक्त के पार्किंग सम्बन्धित ड्रीम प्रोजेक्ट का डाटा प्रजैन्टेशन पीआईयू0 एडीबी0 टूरिज्म भीमताल द्वारा एलडी सभागार में आयुक्त श्री पाण्डियन तथा जिलाधिकारी श्री रावत ने सम्मुख किया गया। गौरतलब है कि आधुनिकतम पार्किंग का निर्माण नारायण नगर (चार खेत) में चिन्हित लगभग चार एकड़ भूमि पर किया जायेगा। आयुक्त ने बताया कि पार्किंग के लिये मल्टीस्टोरी भवन बनाया जाना है जिसमें हल्के व भारी वाहन पार्क किये जायेगें। उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट पर लगभग पर पचास करोड़ की धनराशि व्यय होगी उन्होने इस सम्बन्ध में पर्यटन सचिव शैलेश बगोली से बैठक के दौरान वार्ता की। श्री बगौली ने प्रोजेक्ट को सहमति देते हुये इस वर्ष पन्द्रह करोड़ की धनराशि निर्गत किये जाने की सहमति दी।
श्री पाण्डियन ने उपनिदेशक पर्यटन जेसी बेरी से कहा कि हर हाल में संशोधित प्रस्ताव परीक्षण हेतु जिलाधिकारी को प्रस्तुत करें। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव नैनीताल के पचास साल के भविष्य को ध्यान में रख कर बनाया जाये। उन्होंने कहा कि संशोधित प्रस्ताव दिसम्बर के अन्त में जनसाधारण के बीच विचार विमर्श हेतु रखा जायेगा।  उन्होने जिलाधिकारी श्री रावत से कहा कि नैनीताल के आस-पास जो भी सरकारी भूमि खाली पड़ी है उसका चिन्हीकरण करें तथा भूमि बैंक बनाये। ऐंसी खाली भूमि पर भविष्य में छोटी-छोटी पार्किंग तैयार की जायेंगी।
श्री पाण्डियन ने कहा कि नारायणनगर की जिस भू-खण्ड पर पार्किंग पर निर्माण होगा उस भूमि का भू- वैज्ञानिक सर्वे भी कराया जाये। पार्किंग स्थल के आस-पास सुलभ शौचालय तथा पर्वतीय कुटीर उद्योगों पर आधरित हस्त शिल्प बाजार भी विकसिंत किया जायेगा। उन्होने कहा कि संशोधित प्रस्ताव में नैनीताल के स्थानीय लोगों तथा बाहर से आने वाले पर्यटकों के वाहन पार्किंग की समस्या का अध्ययन कर लिया जाये प्रस्ताव इस प्रकार का हो स्थानीय लोगों एवं पर्यटकों को असुविधा न हो। उन्होंने पर्यटन विभाग को कहा कि नारायण नगर की भूमि के अधिगृहण का प्रस्ताव तत्काल शासन को प्रेषित किया जाये।
जिलाधिकारी दीपक रावत ने बताया कि शहर में सबसे बड़ी समस्या भारी वाहनों की पार्किंग की है। नारायणनगर में बनने वाली पार्किंग में कम से कम दो सौ भारी वाहनों की पार्किंग को भी शामिल किया जाये। बैठक में सचिव झील विकास प्राधिकरण श्रीश कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक हरीश चंद्र सती, प्रभागीय वनाधिकारी धाम सिंह मीणा, संयुक्त मजिस्ट्रेट वंदना सिंह, अधिशासी अधिकारी नगरपालिका रोहिताश शर्मा के अलावा लोनिवि के अधिकारी मौजूद थे।