‘कालेधन’ के साथ ‘बीजेपी नेता’ की गिरफ्तारी पर TMC-BJP में जंग

बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस ने बुधवार को कालेधन के मुद्दे पर एक-दूसरे पर आरोप लगाए. तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी से अपने ‘पार्टी नेता’ मनीष शर्मा पर स्थिति स्पष्ट करने को कहा जो 33 लाख रुपये की नकदी के साथ गिरफ्तार हुए हैं.

हालांकि बीजेपी ने दावा किया है कि उन्होंने इस नेता को कुछ महीने पहले निलंबित कर दिया था. तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य शहरी विकास मंत्री फिरहद हकीम ने संवाददाताओं से कहा कि जो नोटबंदी द्वारा कालेधन से लड़ रहे हैं वे अपनी पार्टी के भीतर कालाधन जमा करने वाले हैं. उन्होंने ऐसे अपराधियों को टिकट दी है.

हकीम ने कहा कि यह बीजेपी का असली रंग और कालेधन से लड़ने की उनकी फर्जी मंशा को दिखाता है. जो खुद चोर हैं वे कालेधन से लड़ने की बात नहीं कर सकते. शर्मा पिछले विधानसभा चुनाव में बर्धमान जिले के आसनसोल क्षेत्र से बीजेपी के उम्मीदवार थे.

इस आरोप पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘हां वह 2016 विधानसभा चुनावों में हमारी पार्टी के उम्मीदवार थे. लेकिन उन्हें उनके खिलाफ आरोप लगने पर 30 जून को निलंबित कर दिया गया था.’