ड्यूटी पर गोली लगने से मरी महिला होमगार्ड के बेटे को दें 25 लाख और नौकरी : हाईकोर्ट

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने मंगलवार को हुई सुनवाई में एक पुलिस थाने में ड्यूटी के दौरान गलती से चली गोली लगने से मरी महिला होमगार्ड के आश्रित पुत्र को 25 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया.

पुलिस थाने में पुलिसकर्मी द्वारा पिस्तौल साफ करते समय गलती से गोली चल गयी थी, जो वहीं ड्यूटी पर तैनात महिला होमगार्ड को लग गई.

हाईकोर्ट की न्यायमूर्ति राजीव शर्मा और न्यायमूर्ति आलोक सिंह की एक खंडपीठ ने यह निर्देश भी दिया कि अपीलकर्ता को पुलिस विभाग या होमगार्ड संगठन में नौकरी भी दी जाए.

अदालत ने राज्य सरकार को यह भी आदेश दिया कि होमगार्ड को दिया जाने वाला दैनिक भत्ता भी 400 रुपये से बढ़ाकर 750 रुपये कर दिया जाए.

अदालत का यह आदेश महिला होमगार्ड के आश्रित पुत्र पीटर द्वारा दायर की गई याचिका पर आया है. जिसने दलील दी कि उसकी मां की मौत के बाद उसे मुआवजे के तौर पर केवल 50,000 रुपये की मामूली रकम दे दी गई. हाईकोर्ट की एकलपीठ ने पहले उसकी याचिका खारिज कर दी थी.