अलविदा अम्मा: लाखों नम आंखों के बीच जयललिता को राजकीय सम्‍मान के साथ ‘अंतिम विदाई’

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री और देश की ताकतवर महिला राजनेताओं में शुमार की जाने वाली जे. जयललिता की पार्थिव देह को मंगलवार शाम उनके राजनैतिक गुरु कहे जाने वाले एमजी रामचंद्रन की समाधि के पास ही दफना दिया गया.

इससे पहले, जयललिता की अंतिम यात्रा राजाजी हॉल से शुरू होकर मरीना बीच तक पहुंची और पूरी यात्रा के दौरान सैकड़ों लोग उस वाहन के साथ-साथ चलते रहे, जिसमें जयललिता की पार्थिव देह को मरीना बीच ले जाया जा रहा था. जयललिता के लाखों समर्थक अपनी लोकप्रिय नेता को अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए मरीना बीच पर जमा हुए थे, और उनकी करीबी सहयोगी रहीं शशिकला ने अंत्येष्टि की सभी रस्में पूरी कीं.

जयललिता का चेन्नई के अपोलो अस्पताल में सोमवार रात निधन हो गया था. वह 68 वर्ष की थीं और पिछले करीब 3 माह से अस्पताल में भर्ती थीं. उनके निधन पर केंद्र सरकार ने एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया है, जिससे देशभर की सरकारी इमारतों पर राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहा. इस बीच, राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेन्नई पहुंचकर दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की.

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह समेत फिल्म जगत की कई शख्सियतों ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया. जयललिता के साथ अच्छे राजनीतिक संबंध साझा करने वाले प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि वह उनके निधन से बेहद दुखी हैं और इसने भारतीय राजनीति में ‘भारी रिक्ति’ पैदा की है. उन्होंने कहा, ‘मैं हमेशा उन अनगिनत अवसरों को संजोकर रखूंगा, जब मुझे जयललिता जी से संवाद करने का अवसर मिला. उनकी आत्मा को शांति मिले.’

इससे पहले जयललिता के पार्थिव शरीर को मंगलवार सुबह जब उनके आवास पोएस गार्डन से राजाजी हॉल ले जाया जा रहा था, तो वहां समर्थकों की भारी भीड़ जुटी हुई थी. इस दौरान कई बार समर्थकों और पुलिस में झड़प देखने को मिली. पूरे चेन्नई में चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया.