जयललिता को पीएम मोदी और राष्ट्रपति सहित तमाम नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी, केन्द्रीय मंत्रियों, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी तथा विभिन्न अन्य नेताओं ने सोमवार रात तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता के निधन पर शोक प्रकट किया. और उन्हें श्रद्धांजलि दी.

जयललिता का सोमवार देर रात चेन्नई में एक निजी अस्पताल में निधन हो गया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जयललिता के निधन की खबर मिलने पर ट्वीट किया, ‘जयललिता के निधन पर बहुत दुखी हूं. उनके निधन ने भारतीय राजनीति में बड़ा शून्य पैदा किया है’ उन्होंने कहा, ‘मैं उन असंख्य मौकों को हमेशा संजोकर रखूंगा, जब मुझे जयललिता जी के साथ बातचीत का अवसर मिला. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे.’

तमिलनाडु राजनीति की दिग्गज नेता के निधन पर शोक जताते हुए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा, ‘तमिलनाडु की मुख्यमंत्री कुमारी जयराम जयललिता के दुखद निधन पर तहेदिल से शोक.’ उपराष्ट्रपति अंसारी ने भी उनके निधन पर दुख जताते हुए कहा कि जयललिता का निधन ‘भारत की जनता के लिए अपूरणीय क्षति’ है.

कांग्रेस अध्यक्ष साोनिया गांधी ने भी उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा, ‘मैं सेल्वी जे. जयललिता के निधन की खबर सुनकर बहुत दुखी हूं.’ राहुल गांधी ने कहा, ‘आज हमने बहुत बड़ा नेता खो दिया. महिलाएं, किसान, मछुआरे और वंचित लोगों ने उनकी आंखों से सपने देखे. हम जयललिता की कमी महसूस करेंगे.’

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी जयललिता के निधन पर शोक जताया और कहा, ‘वह समाज के कमजोर वर्गों की शक्तिशाली आवाज थीं.’ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी जयललिता के निधन पर शोक जताया.

केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी. नारायणसामी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, तमिलनाडु विधानसभा में विपक्ष के नेता एम.के. स्टालिन ने भी उनके निधन पर शोक प्रकट किया.

स्टालिन ने कहा, हमारी मुख्यमंत्री सेल्वी जयललिता के निधन से बेहद दुखी हूं, वह ‘आयरन लेडी’ थीं. बता दें कि स्टालिन द्रमुक के कोषाध्यक्ष भी हैं.