मुरादाबाद परिवर्तन रैली में गरजे मोदी बोले ’70 साल से देश लाईन में लगा था, कोई नहीं बोला’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को मुरादाबाद में एक रैली को संबोधित किया. नोटबंदी के बाद यूपी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ये चौथी रैली थी. मोदी ने कहा कि सत्ता में आने पर मैंने व्यक्तिगत रूप से अधिकारियों से पूछा कि आखिर क्यों आजादी के 70 साल बाद भी कई गांव अभी भी बिजली से वंचित हैं. मैंने लाल किले से एक घोषणा की कि गांवों में 1000 दिन में बिजली पहुंचेगी और हम इसे पूरा कर रहे हैं.

पीएम ने कहा कि मुरादाबाद ने जी जान से समर्थन किया है. 2014 में समर्थन के लिए धन्यवाद. मुझे 2014 में नहीं आने का दुख है. मैं 2009 में यहां आया था. पीएम ने कहा कि देश से गरीबी हटाने के लिए यूपी, बिहार और महाराष्ट्र जैसे राज्यों का विकास जरूरी है. मैं यूपी से सांसद बनने के लिए नहीं लड़ा बल्कि गरीबी हटाने के लिए यहां से चुनाव लड़ा. मुरादाबाद के पीतल उद्योग को देशभर में जाना जाता है.

‘हम तो फकीर आदमी हैं. झोला लेकर चल पड़ेंगे’

प्रधानमंत्री ने जनता से कहा कि आप लोग मेरे आलाकमान हैं और कोई नहीं. गरीबों को हक दिलाना गुनाह है क्या? भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने वाला गुनहगार है क्या? मुझे मेरे देश के ही कुछ लोग गुनहगार बना रहे हैं. भ्रष्टाचार दूर करने के लिए कानून की मदद लेनी पड़ेगी और भ्रष्टाचारियों को किनारे लगाना पड़ेगा. मैं आपके लिए लड़ाई लड़ रहा हूं. ज्यादा से ज्यादा मेरा क्या कर लेंगे. हम तो फकीर आदमी हैं. झोला लेकर चल पड़ेंगे.

अगर इस देश के गरीब को ताकत दी जाए तो गरीबी खत्म हो जाएगी. कोने-कोने से लोगों के यहां नोट निकलते थे. अब वे गरीबों के पैर पकड़ते हैं, कि मेरा कुछ रुपया अपने खाते में डाल लो. बेईमान लोग गरीबों के घर पर कतार लगाए हैं.

पीएम ने कहा कि आज कल लोग मोदी-मोदी कर रहे हैं, पहले मनी-मनी बोलते थे. मैं दिमाग लगा रहा हूं कि पैसा गरीब के पास रहे. मोदी ने कहा कि आप जनधन के खातों से पैसा मत निकालिए. मध्यम वर्ग के लोग कालाधन नहीं रखते. बेईमान लोग जेल जाएंगे, पैसा गरीबों के पास आएगा. पीएम ने कहा कि यह हिंदुस्तान है, जिसे आप गरीब अनपढ़ कहते हैं, वे बटन दबाकर वोट देना जानते हैं. अब हमारे नौजवान मोबाइल बैंक से खर्च चलाना सिखा रहे हैं. मेरा देश परिवर्तन को स्वीकार करने वाला देश है, देश में 40 करोड़ स्मार्ट फोन हैं, इससे ईमानदारी आएगी.