इस बार कोहरे के कारण रेलवे नहीं करेगा ट्रेने रद्द | ‘पटाखा सिस्टम’ का भी होगा उपयोग

भारतीय रेल

घने कोहरे के कारण का सबसे ज्यादा असर रेल परिचालन पर पड़ा है। कोहरे की वजह से कई ट्रेनें घंटों देरी से चल रही हैं। सुबह 11 बजे तक के अपडेट के अनुसार तूफान एक्सप्रेस 18 घंटे, शहीद एक्सप्रेस 13 घंटे, पूर्वा एक्सप्रेस 8 घंटे, वैशाली एक्सप्रेस 7 घंटे, सिक्कम महानंदा एक्सप्रेस 12 घंटे, पटना राजधानी 5 घंटे और मुंबई राजधानी 2 घंटे की देरी से चल रही है। लोकल ट्रेनों की बात करें तो ये ट्रेनें भी 1 से 2 घंटे की देरी से चल रही हैं। ऐसे में यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

ट्रेनों के सुरक्षित परिचालन को लेकर मंथन शुरू हो गया है। बताया जा रहा है कि इस बार ट्रेनों को कैंसल करने के बजाय फेरों को कैंसल करने की तैयारी है। इस प्लान के तहत राजधानी, शताब्दी ट्रेनों के फेरों को भी कैंसल किया जाएगा। जल्द ही रेलवे की ओर से पब्लिक नोटिस जारी किया जा सकता है। रेलवे का मानना है कि इससे ट्रैक पर ट्रेनों का दबाव कम होगा, वहीं ज्यादा ट्रेनों को कैंसल करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अगर फॉग काफी दिनों तक नहीं रहा तो फेरों को बहाल कर दिया जाएगा।

कोहरे की वजह से रेलवे पटाखा सिस्टम का भी इस्तेमाल कर रहा है। इसमें स्टेशन एरिया के सिग्नल से 180 मीटर की दूरी पर ट्रैक और स्लीपर के बीच पटाखे फिट किए जाते हैं। जैसे ही ट्रेन उस पर से गुजरती है, पटाखे की आवाज आती है। इससे ड्राइवर को पता चल जाता है कि आगे सिग्नल है और वह उसी हिसाब से अपनी स्पीड को बदल देता है।

विभागीय सूत्रों के मुताबिक, बुधवार को ही रेलवे बोर्ड में अधिकारियों की बैठक बुलाई गई। नई व्यवस्था के लिए जोनल रेलवे से उन ट्रेनों से जुड़े आंकड़े मांगे गए हैं, जिनमें यात्रियों की अधिक भीड़ होती है। कोशिश होगी कि पब्लिक डिमांड वाली ट्रेनें रद्द करने के बजाय उनके फेरे घटाएं। डेली एक्सप्रेस व सुपरफास्ट ट्रेनें रद्द करने के बजाय हफ्ते में पांच से छह दिन चलाई जा सकती हैं।