सिपाही गया था बंदूक जमा करने, दब गया ट्रिगर और चेहरे से सिर के पार निकल गई गोली!

देहरादून में पुलिस लाइन में उस वक्त सनसनी फैल गई जब कांस्टेबल की गोली लगने से मौत हो गई, घटना उस वक्त हुई जब सिपाही अपनी राइफल जमा कराने के लिए गार्द रूम के पास पहुंचा. गोली उसके चेहरे से सिर के पार निकल गई. उस वक्त वह मुलजिम कमान ड्यूटी से लौट शस्त्रागार में रायफल जमा कराने जा रहा था.

घटना की जानकारी मिलते ही एसएसपी सदानंद दाते, एसपी सिटी अजय मौके पर पहुंचे. एसएसपी सदानंद दाते ने बताया है कि घटना एक्सिडेंटल हो सकती है. बताया जा रहा है कि राइफल का सेफ्टी लॉक नही लगा हुआ था, हांलाकि पूरी घटना को इंवेस्टिगेशन के लिए फोरेंसिक जांच टीम भी मौके पर पहुची, साक्ष्य जुटाने के बाद मामले की पड़ताल जारी है. पुलिस महानिदेशक एमए गणपति ने परिवार को एक लाख रुपये की आर्थिक सहायता और एक सदस्य को नौकरी देने की घोषणा की है.

कांस्टेबिल हुकुम सिंह (46 वर्ष) पुत्र रीठू सिंह तीन दिन पहले ही चमोली जिले से स्थानांतरित होकर देहरादून आए थे. मंगलवार सुबह वह गारद के साथ मुलजिम कमान ड्यूटी पर थे. बंदियों को कोर्ट में पेश कराने के बाद उन्हें सुद्धोवाला जेल छोड़कर वह शाम सवा छह बजे के करीब पुलिस वाहन से पुलिस लाइन पहुंचे. इसके बाद वह सरकारी रायफल शस्त्रागार में जमा कराने जा रहे थे. बताया जा रहा है कि क्वार्टर गार्ड के सामने कंधे से रायफल उतारने के दौरान अचानक गोली चल गई. हुकम सिंह वहीं गिर पड़े. यह देख पीछे आ रहे सिपाही अवाक रह गए. शस्त्रागार में ड्यूटी पर मौजूद पुलिसकर्मी भी गोली की आवाज सुन बाहर आ गए. उन्हें जब तक अस्पताल ले जाने का प्रयास किया जाता, तब उनकी मौत हो गई.

एसएसपी ने हुकुम सिंह के साथ दिन भर ड्यूटी पर रहे गारद के सभी आठ पुलिसकर्मियों को पुलिस लाइन में रुकने का आदेश दिया है. एसएसपी ने कहा कि सभी से पूछताछ की गई है, लेकिन सभी ने बताया कि हुकुम सिंह सामान्य तरीके से ड्यूटी पर रहे. ऐसा नहीं लगा कि वह किसी तरह से तनाव में हैं.