देश के 50 फीसदी मोबाइल हैंडसेट अकेले उत्तर प्रदेश में बन रहे हैं

उत्तर प्रदेश देश में मोबाइल विनिर्माण हब के रूप में उभर रहा है. औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) के अनुसार देश में कुल मोबाइल उपकरणों के विनिर्माण में से उत्तर प्रदेश का हिस्सा करीब 50 प्रतिशत का है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि सितंबर, 2015 के बाद से दो करोड़ इकाई मासिक क्षमता की 38 नई मोबाइल विनिर्माण इकाइयां लगाई गई हैं. इससे 38300 रोजगार के अवसरों का सृजन हुआ है.

आंकड़ों के अनुसार देश में कुल मोबाइल उत्पादन की स्थापित क्षमता 2.07 करोड़ इकाई मासिक की है. इसमें से उत्तर प्रदेश का हिस्सा करीब एक करोड़ इकाई का है. हरियाणा की स्थापित क्षमता 25 लाख इकाई की है.

देश में स्थापित 38 मोबाइल विनिर्माण इकाइयों में से 13 उत्तर प्रदेश में हैं. दिल्ली में छह मोबाइल विनिर्माण इकाइयां हैं. आंध्र प्रदेश में चार, उत्तराखंड और हरियाणा में तीन-तीन, महाराष्ट्र में दो, तेलंगाना में दो, जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल तथा दमन में एक-एक इकाई है.

हालांकि, इंडियन सेल्युलर एसोसिएशन के अनुसार देश में जुलाई, 2016 तक कुल 39 विनिर्माण इकाइयां थीं. आईसीए के अनुसार इन 39 में से 15 इकाइयां उत्तर प्रदेश में हैं. इनमें सैमसंग, लावा, इंटेक्स शामिल हैं. इन इकाइयों की कुल मासिक क्षमता 1.31 करोड़ इकाई की है.