INDvsENG: रवींद्र जडेजा की शानदार बल्लेबाजी जारी, भारत का स्कोर 350 के पार

भारत और इंग्लैंड के बीच मोहाली में खेले जा रहे 5 टेस्ट मैचों की सीरीज के तीसरे टेस्ट में फिलहाल मुकाबला बराबरी पर है. तीसरे दिन का खेल जारी है. टीम इंडिया ने 7 विकेट खोकर 354 रन बना लिए है. जयंत यादव (13) और रवींद्र जडेजा (49 रन, 5 चौके, 1 छक्का) क्रीज पर हैं. और अश्विन ने 72 रन बनाए. उन्होंने जडेजा के साथ 97 रनों की साझेदारी की. टीम इंडिया ने इंग्लैंड पर 35 रन की बढ़त हासिल कर ली है.

भारत का विकेट पतन : 1/39 (मुरली विजय- 12), 2/73 (पार्थिव पटेल- 42), 3/148 (चेतेश्वर पुजारा- 51), 4/152 (अजिंक्य रहाणे- 0), 5/156 (करुण नायर- 4), 6/204 (विराट कोहली- 62), 7/301 (आर अश्विन- 72)

टीम इंडिया ने तीसरे दिन 6 विकेट पर 271 रन से आगे खेलना शुरू किया. रविवार के नाबाद बल्लेबाज आर अश्विन (57) और रवींद्र जडेजा (31) ने अच्छी बल्लेबाजी की. अश्विन ने दिन के खेल की पहली ही गेंद पर चौका लगाकर अपने इरादे जाहिर कर दिए. हालांकि जडेजा उनसे अधिक अक्रामक दिखे और कुछ खूबसूरत शॉट खेले. अश्विन (72) ने अपने निजी स्कोर में 15 रन ही जोड़े थे कि बेन स्टोक्स की गेंद पर हवा में शॉट खेल दिया और पॉइंट पर खड़े जोस बटलर ने लपक लिया. वास्तव में अश्विन ने क्रिस वॉक्स की ऐसी ही गेंदों पर बाउंड्री हासिल की थीं, लेकिन स्टोक्स को नहीं पढ़ पाए. अश्विन ने जडेजा के साथ 97 रनों की साझेदारी की.

टीम इंडिया के लिए इस समय अश्विन से बहुमूल्य खिलाड़ी कोई नहीं है, फिर चाहे गेंदबाजी हो या बल्लेबाजी. उनके सामने तो अजिंक्य रहाणे जैसे बल्लेबाज भी फेल दिख रहे हैं. जब भी टीम संकट में होती है, उनके बल्ले से रन निकलने लगते हैं. उन्होंने मोहाली में भी फिफ्टी लगा दी है, जो उनके करियर की नौवीं फिफ्टी है. इस सीरीज को ही लें, तो उन्होंने 70, 32, 57, 07 और नाबाद 57 (मोहाली) का स्कोर किया है. वहीं अजिंक्य रहाणे का खराब फॉर्म जारी है, खासतौर से स्पिनरों के खिलाफ वह फेल हो रहे हैं. उन्होंने इस सीरीज में 12.60 के औसत से सिर्फ 63 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका टॉप स्कोर 26 रन रहा है.

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली सीरीज दर सीरीज हर फॉर्मेट में कुछ नए रिकॉर्ड बनाते जा रहे हैं. मोहाली में उनके सामने एक और उपलब्धि हासिल करने का मौका है. वह टेस्ट में अपने 4000 रन पूरे कर सकते हैं. मैच से पहले उन्हें 109 रन चाहिए थे, लेकिन पहली पारी में 62 रन बनाने के कारण उन्हें अब महज 47 रन और बनाने हैं. वह दूसरी पारी में इसे हासिल कर सकते हैं.

दूसरा दिन : कोहली-पुजारा-अश्विन छाए

टीम इंडिया की ओर से चेतेश्वर पुजारा (51) ने करियर की 11वीं, तो विराट कोहली (62) ने 14वीं और आर अश्विन (57) ने नौवीं फिफ्टी बनाई. पार्थिव पटेल ने 42 रनों का योगदान दिया. चायकाल के बाद टीम इंडिया को जैसे ग्रहण लग गया. आदिल राशिद की दूसरी ही गेंद पर 11वीं फिफ्टी बनाकर खेल रहे चेतेश्वर पुजारा 51 रन पर कैच आउट हो गए. क्रिस वॉक्स ने उनका शानदार कैच लपका. इस प्रकार टीम इंडिया ने 148 रन पर ही तीसरा विकेट खो दिया. पुजारा-कोहली के बीच 75 रन की साझेदारी हुई. इनके अलावा मध्यक्रम का कोई भी बल्लेबाज नहीं चला. अजिंक्य रहाणे (0) और डेब्यू मैच खेल रहे करुण नायर (4) भी कोई कमाल नहीं कर सके. टीम इंडिया ने महज 8 रन के भीतर 3 विकेट खो दिए. एक समय लगा कि विराट और अश्विन टीम को संकट से उबार लेंगे, लेकिन तभी विराट कोहली करियर की 14वीं फिफ्टी लगाने के बाद 62 रन पर बेन स्टोक्स का शिकार बन गए. स्टोक्स ने विराट की कमजोरी का फायदा उठाया और गेंद को ऑफ स्टंप के बाहर रखते हुए खेलने को मजबूर किया. इसके बाद अश्विन ने रवीद्र जडेजा के साथ जबर्दस्त बल्लेबाजी की और 67 रन जोड़ते हुए दिन में कोई विकेट नहीं गिरने दिया. दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक टीम इंडिया ने 6 विकेट पर 271 रन बना लिए. आर अश्विन (57) और रवींद्र जडेजा (31) नाबाद लौटे. इंग्लैंड की ओर से गेंदबाजी में आदिल राशिद ने तीन, तो बेन स्टोक्स ने दो विकेट लिए, वहीं टीम इंडिया की ओर से मोहम्मद शमी ने तीन, तो रवींद्र जडेजा, उमेश यादव और जयंत यादव ने दो-दो विकेट, जबकि आर अश्विन ने एक विकेट चटकाया. इंग्लैंड की पहली पारी लंच से पहले 283 रनों पर सिमट गई. जॉनी बेयरस्टॉ ने सबसे अधिक 89 रन और जोस बटलर ने 43 रनों का योगदान दिया.

पहला दिन : टीम इंडिया के नाम

टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड ने पहले दिन 8 विकेट पर 268 रन बनाए. आदिल राशिद (2) और गैरेथ बैटी (0) नाबाद रहे. उनकी ओर से जॉनी बेयरस्टॉ ने सबसे अधिक 89 रन बनाए. उन्हें विकेटकीपर पार्थिव पटेल ने जयंत यादव के ओवर में 89 के स्कोर पर जीवनदान भी दिया, लेकिन वह अगली ही गेंद पर पगबाधा आउट हो गए. बेयरस्टॉ ने जोस बटलर (43) के साथ 69 रन, तो क्रिस वॉक्स (25) के साथ 45 रन की साझेदारी की. बेयरस्टॉ ने 76 गेंदों पर करियर की 13वीं फिफ्टी पूरी की. साल 2016 में यह उनकी 7वीं फिफ्टी रही और वह साल में टेस्ट में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज भी हैं. उनके अलावा जोस बटलर ने 43 रन बनाए, तो क्रिस वॉक्स ने 25, एलिस्टर कुक ने 27, बेन स्टोक्स ने 29 और मोईन अली ने 16 रनों का योगदान दिया. कुक को तो अश्विन ने जीवनदान भी दिया, लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा पाए. बेयरस्टॉ ने जरूर मजबूती से बल्लेबाजी की और मोईन अली के साथ 35, बेन स्टोक्स (29) के साथ 57, जोस बटलर (43) के साथ 69 रन, तो क्रिस वॉक्स (25) के साथ 45 रन की साझेदारी की. बेयरस्टॉ ने 76 गेंदों पर करियर की 13वीं फिफ्टी पूरी की. साल 2016 में यह उनकी 7वीं फिफ्टी है.

पहले दिन टीम इंडिया के लिए जहां गेंदबाजों ने राहत दी, वहीं फील्डिंग का स्तर एक बार फिर खराब रहा और उसने राजकोट और विशाखापटनम की परंपरा को आगे बढ़ाते हुए यहां भी 4 कैच छोड़े. टीम इंडिया की ओर से रवींद्र जडेजा, उमेश यादव और जयंत यादव ने दो-दो विकेट, जबकि मोहम्मद शमी और आर अश्विन ने एक-एक विकेट चटकाया.

टीम इंडिया ने इंग्लैंड के खिलाफ वर्तमान सीरीज के पहले दोनों मैच नए टेस्ट वेन्यू (राजकोट और विशाखापटनम) में खेले हैं. हालांकि तीसरा टेस्ट मोहाली के ऐतिहासिक मैदान पर खेला जाएगा, जहां पहला टेस्ट 1994 में वेस्टइंडीज के साथ खेला गया था और टीम इंडिया को इसमें करारी हार झेलनी पड़ी थी. यदि पिछले 3 टेस्ट को देखें, तो टीम इंडिया ने मोहाली क्रिकेट ग्राउंड में ऑस्ट्रेलिया को 2 बार, तो दक्षिण अफ्रीका को एक बार हराया है, वहीं पहली हार के बाद मोहाली में 11 टेस्ट मैचों में टीम इंडिया एक भी मैच नहीं हारी है और उसके नाम 6 जीत रही हैं, जबकि 5 मैच ड्रॉ खेले हैं.

मोहाली में इंग्लैंड के खिलाफ टीम इंडिया का प्रदर्शन देखें, तो दोनों टीमें यहां 3 बार भिड़ी हैं, जिनमें भारत दो बार जीता है और एक टेस्ट ड्रॉ रहा. टीम इंडिया ने इंग्लैंड को 2001 में इंग्लैंड को 10 विकेट, तो 2006 में 9 विकेट से हराया था, जबकि 2008 में दोनों टीमों के बीच मैच ड्रॉ रहा था.