बीजेपी के ‘इस’ नेता का दांव- ‘हरदा’ जिस सीट पर चाहें, वहां से उनके खिलाफ लड़ूंगा चुनाव

अगले साल की शुरुआत में देवभूमि उत्तराखंड के दंगल यानी विधानसभा चुनाव में जब बीजेपी मुख्यमंत्री हरीश रावत के खिलाफ चेहरा देने से बच रही है. लेकिन एक बीजेपी नेता खुले तौर पर मुख्यमंत्री हरीश रावत को मात देने के हुंकार भर रहे हैं. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल बलूनी ने राज्य में पार्टी नेताओं से एक कदम आगे बढ़कर हरदा को सीधे चुनावी जंग के लिए ललकार दिया है.

अनिल बलूनी ने ऐलान कर दिया है कि धारचूला से लेकर यमुनोत्री यानी राज्य की 70 विधानसबा सीटों में जहां से मुख्यमंत्री हरीश रावत चुनाव लड़ेंगे वे उनके खिलाफ लड़ेंगे. बलूनी ने पार्टी आलाकमान से हरदा के खिलाफ टिकट मांग लिया है. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने हरदा सरकार पर आरोप लगाया है कि शराब और खनन की गंगा में गोते लगाती कांग्रेस सरकार के हिस्से एक भी उपलब्धि नहीं हैं.

बलूनी ने कहा कि मुख्यमंत्री की एकमात्र उपलब्धि परिवारवाद और भ्रष्टाचार को बढ़ावा देना है और राज्य की जनता इससे मुक्ति चाहती है. बलूनी से कुछ दिन पहले कांग्रेस से बग़ावत कर बीजेपी में आए हरक सिंह रावत भी धारचूला से हरीश रावत के खिलाफ चुनावी जंग में उतरने की इच्छा जता चुके हैं.

बहरहाल, सियासत के अखाड़े में हर पहलवान के दांव का पेंच विरोधी के साथ साथ कई बार अपनों को भी चित कर देता है. बलूनी के बयान को भी उसी नजरिये से देखा जा सकता है.

ऐसे में जब कई बीजेपी के दिग्गज सुरक्षित सीट की तलाश में अपने पुराने सियासी गढ़ छोड़ने का मन बना रहे हैं, तब बलूनी का दांव कई पार्टी नेताओं को चित न कर डाले. खासकर कुमाऊं के कुछ दिग्गज जो हरदा से दो-दो हाथ करने की बजाय सेफ़ सीट के लिए सर्वे का सहारा लेकर पलायन का प्लान बनाने में लगे हैं.

वैसे बलूनी के ताज़ा दांव से पहले किशोर उपाध्याय और फिर हरीश रावत भी बीजेपी आलाकमान के ब्लू आई बलूनी को मुख्यमंत्री की रेस में सब पर भारी बताकर गुगली खेल चुके हैं.

बीजेपी राष्ट्रीय प्रवक्ता अनिल बलूनी के मुख्यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ने के सवाल पर हरदा ने कहा कि सभी छोटे भाइयों को शुभकामनाएं देता हूं. सीएम ने व्यंग्य करते हुए कहा कि मैं तो बहुत छोटा आदमी हूं. मैं किसी को चुनौती देने की स्थिति में नहीं हूं. बल्कि हाथ जोड़ने की स्थिति में हूं.