उत्तराखंड भेजा जाएगा दिल्ली में यमुना किनारे देखा गया तेंदुआ!

दिल्ली के यमुना जैव विविधता उद्यान में हाल में देखे गए एक तेंदुए को राज्य सरकार संभवत: उत्तराखंड के राजाजी राष्ट्रीय उद्यान में भेज सकती है, क्योंकि पशु हरियाणा से भटक कर आया है और आसपास के इलाकों में रहने वालों के लिए खतरा हो सकता है.

बहरहाल यह फैसला गुड़गांव के सोहना क्षेत्र में गुस्साए ग्रामीणों द्वारा एक तेंदुए की हत्या किए जाने के एक दिन बाद लिया गया है. इस घटना ने डीडीए द्वारा संचालित उद्यान (केंद्र के अधीन) के अधिकारियों को परेशानी में डाल दिया है. वहीं परिस्थितिकी विज्ञानी और वैज्ञानिक खुश हैं.

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री इमरान हुसैन ने कहा है कि तेंदुए का दिखना गुणवत्ता के वन क्षेत्र के लिए एक अच्छा संकेत है. उन्होंने चिंता जताई कि सुरक्षा उपायों में कमी से आसपास रहने वाले लोगों को खतरा हो सकता है.

उद्यान के वैज्ञानिक प्रभारी फैयाज खुदसर ने बताया, ‘परिस्थितिकी विज्ञानी के तौर यह मेरी दुविधा है. हम यहां पौष्टिकता संबंधी संरचना का निदान करने के लिए हैं और तेंदुए की मौजूदी इसे पूरा करती है. इसकी मौजूदगी खाद्य श्रृंखला को पूरा करती है और हमें संतुष्ट करती है कि हम चीजें सही कर रहे है.’

जब दिल्ली के मुख्य वन्य जीव वार्डन एके शुक्ला से संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि फैसला इस तथ्य को देखते हुए किया गया है कि भटके हुए पशु एक हद के बाद क्रूर हो जाते हैं.

वह वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 के तहत राष्ट्रीय राजधानी के सभी पशुओं के संरक्षक हैं. हुसैन ने वन विभाग को निर्देश दिया है कि केंद्रीय चिड़िया घर प्राधिकरण की मदद से तेंदुए को जिंदा पकड़ने के लिए सभी कोशिशें की जाएं.