19 की उम्र तक हर 10 में से चार लड़कियां होती हैं प्रताड़ना की शिकार

सांकेतिक फोटो

भारत में 19 साल की आयु पूरी करने से पहले प्रत्येक 10 में कम से कम चार युवतियां प्रताड़ना या हिंसा की शिकार होती हैं.

गैर सरकारी संगठन ‘एक्शन एड’ की ओर से चार देशों में कराए गए सर्वेक्षण के अनुसार भारत में 19 वर्ष की आयु पूरी करने से पहले 41 प्रतिशत युवतियां प्रताड़ना का शिकार होती हैं.

सर्वेक्षण के अनुसार, भारत में 10 साल की उम्र होने से पहले छह प्रतिशत लड़कियां प्रताड़ना की शिकार होती हैं, जबकि ब्राजील में 16 प्रतिशत, ब्रिटेन में 12 प्रतिशत और थाइलैंड में आठ प्रतिशत लड़कियों के साथ ऐसा होता है.

शुक्रवार को जारी सर्वे रिपोर्ट के अनुसार, ‘भारत में 41 प्रतिशत महिलाओं ने पिछले एक महीने में किसी न किसी प्रकार की हिंसा या प्रताड़ना झेली है. अन्य देशों में तो संख्या और भी ज्यादा है. थाईलैंड में यह 67 प्रतिशत और ब्राजील में 87 प्रतिशत है. वहीं ब्रिटेन में 57 प्रतिशत महिलाओं के साथ ऐसा हुआ.’

इसके अनुसार भारत में 26 प्रतिशत महिलाओं का कहना है कि पिछले एक महीने में उनके साथ छेड़खानी की गई है, जबकि ब्राजील में 20 प्रतिशत, थाईलैंड में 26 प्रतिशत और ब्रिटेन में 16 प्रतिशत महिलाओं ने ऐसा कहा.

महिलाओं के खिलाफ हिंसा को समाप्त करने के अंतरराष्ट्रीय दिवस के अवसर पर यह सर्वेक्षण किया गया है.