गई थी नोट बदलवाने | सड़क पर चली 21 कदम, लौटी तो लुटा बैठी..

घर से नोट बदलवाने निकली वृद्ध महिला से पुराने नोट लेने से बैंक ने इन्कार कर दिया तो परेशानी दूर करने के लिए वह सड़क पर ही आंख बंद कर पूजा करने लगी. इसके लिए वह 21 कदम आगे चली. जब वह वापस मुड़ी तो उसे पता चला कि उसकी परेशानी दूर होने की बजाय और बढ़ गई. उसके पास जो कुछ था वो भी चला गया.

घटना देहरादून नेहरू कॉलोनी थाना क्षेत्र की है. पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार नेहरू कॉलोनी सी ब्लॉक में परवेस सोनी (65 वर्ष) अकेली रहती हैं. सुबह वह पांच हजार रुपये के पुराने नोट बदलवाने इलाहाबाद बैंक गई. यहां बैंक कर्मी ने उनके नोट बदलने से इन्कार कर दिया, क्योंकि वह हाल ही में बैंक से पुराने नोट बदलवा चुकी थी.

नोट न बदले जाने से परेशान परवेस बैंक से निकलीं और पैदल ही घर की ओर चल दीं. बैंक से कुछ दूरी पर उन्हें एक युवक मिला और परेशानी की वजह पूछने लगा. युवक ने परवेस को दिलासा दिलाने के साथ ही कहा कि वह उनकी सारी परेशानी दूर कर सकता है.

युवक की हमदर्दी भरी बातें सुनकर परवेस उसके झांसे में आ गई. इसी बीच बातों-बातों में युवक ने वृद्धा को परेशानी दूर करने का उपाय बताया. युवक के कहने पर उसने कान के टॉप्स, पासबुक, आधार कार्ड और 5000 रुपये एक पॉलीथिन में रखकर उसे सौंप दिए. सारा सामान लेने के बाद युवक ने वृद्धा से कहा कि अब वह 21 कदम खाली हाथ आगे जाए. जब वह वापस आएगी तो उनके सारे दुख दूर हो जाएंगे.

झांसे में आई परवेस अपना सामान युवक के पास छोड़कर 21 कदम पैदल गई. फिर जब उसने पीछे मुड़कर देखा तो युवक वहां से नदारद था. उन्होंने युवक को बहुत तलाश किया, लेकिन उसका कहीं कोई पता नहीं चला. इसके बाद वृद्धा नेहरू कॉलोनी थाने पहुंचीं और सारी कहानी पुलिस को बताई.