तस्करी कर लायी जा रही दो नेपाली लड़कियों को SSB ने वापस भेजा

नेपाल से एक किशोरी और युवती को बहला-फुसलाकर ला रहे दो नेपाली युवकों को एसएसबी ने हिरासत में ले लिया है. चारों को नेपाल पुलिस के सुपुर्द कर दिया गया है. मामला मानव तस्करी का माना जा रहा है.

एसएसबी 57वीं वाहिनी एफ कंपनी की प्रभारी कमांडर महिला एसआई पूनम सुरीन के नेतृत्व में एसएसबी जवान और महिला जवान अपनी बीओपी पर चेकिंग अभियान चला रहे थे. इसी बीच नेपाल से आ रही एक बोलेरो जीप को रोककर उसकी जांच की गई तो उसमें ड्राइवर के अलावा एक अन्य नेपाली युवक था.

इसके अलावा वाहन में कैलाली और बैतड़ी की रहने वाली एक 17 वर्षीय नेपाली किशोरी और एक 22 वर्षीय नेपाली युवती भी बैठी पायी गईं. पूछताछ में परस्पर विरोधी बयान और युवकों से आपसी संबंध न होने से एसएसबी को शक हुआ.

एसएसबी की महिला कर्मियों ने उनसे कड़ी पूछताछ की, लेकिन वे कुछ भी स्पष्ट नहीं बता पाए. उनके पास न तो आईडी थी, न ही वे भारत आने का कारण ही बता पायीं. वे कभी होटल में तो कभी अस्पताल में काम करना बता रही थीं.

मामला संदिग्ध लगने पर एसएसबी कमांडर ने नेपाल पुलिस को सूचित किया. नेपाल पुलिस के हेड कांस्टेबल टीआर पंत ने पूछताछ की तो उन्होंने बनबसा में सामान खरीदने जाना बताया.

एसएसबी ने दोनों नेपाली लड़कियों और युवकों को नेपाल पुलिस के सुपुर्द कर दिया. नेपाल पुलिस कैलाली जिले के रहने वाले शिवराज और ड्राइवर धनीराम पर कार्रवाई करेगी और लड़कियों को एक संस्था के माध्यम से उनके परिजनों के सुपुर्द करेगी.