अमेरिका में देश का नाम रोशन कर रही उत्तराखंड की ‘संस्कृति’

उत्तराखंड की संस्कृति अमेरिका में देश का नाम रोशन कर रही है. 15 वर्षीय संस्कृति भटकोटी अमेरिका में 18 नवंबर से शुरू हुई वर्ल्ड स्कॉलर कप प्रतियोगिता में हिस्सा लेने अमेरिका पहुची.

इस प्रतियोगिता में 50 देशों के करीब तीन हजार स्कूली छात्र-छात्राएं प्रतिभाग कर रहे हैं. प्रतियोगिता का मकसद विभिन्न संस्कृति के बच्चों को एक मंच प्रदान करना है, जहां वह वर्तमान व भविष्य के मुद्दों व विचारों पर मंथन करेंगे. प्रतियोगिता का आयोजन 18 से 26 नवंबर तक अमेरिका की येल यूनिवर्सिटी की इंटरनेशनल रिलेशन एसोसिएशन की ओर से किया जा रहा है.

मूल रूप से देहरादून की राजपुर रोड निवासी संस्कृति भटकोटी दिल्ली स्थित मैक्सफोर्ट स्कूल में 10वीं की छात्रा है. संस्कृति के पिता राहुल भटकोटी एविएशन सेक्टर में महाप्रबंधक और मां प्रियंका भटकोटी मैक्सफोर्ट स्कूल द्वारका (दिल्ली) में प्रधानाचार्य हैं. उनके दादा डॉ. डीएन भटकोटी डीएवी पीजी कॉलेज में राजनीतिक विज्ञान के विभागाध्यक्ष रह चुके हैं और वर्तमान में सामाजिक सरोकारों से जुड़े हैं.

संस्कृति अमेरिका की वर्ल्ड स्कॉलर कप के टूर्नामेंट ऑफ चैंपियन राउंड के लिए आयोजक संस्था के आमंत्रण पर प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए वह अमेरिका पहुंच गई हैं. इस दौरान उसे विभिन्न चरणों से गुजरना पड़ेगा.

इससे पूर्व संस्कृति ने वर्ल्ड स्कॉलर कप प्रतियोगिता के प्रारंभिक चरण में राष्ट्रीय स्तर पर दिल्ली, गाजियाबाद, चंडीगढ़ व एशिया स्तर पर बैंकॉक में प्रतिभाग किया है। इसमें क्षेत्रीय, राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय राउंड में क्रमश: तीन स्वर्ण, नौ रजत व दो कांस्य पदक के अलावा एक ट्रॉफी अपने नाम की।