नोटबंदी : लोकसभा हंगामे के बाद कल तक के लिये स्थगित, मायावती बोलीं – पीएम को तलब करें राष्ट्रपति!

बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने प्रधानंमत्री नरेंद्र मोदी पर नोटबंदी को लेकर बुधवार को सदन के बाहर से हमला किया. उन्होंने कहा कि जब पीएम ने इतना अच्छा काम किया है तो वह संसद आने से क्यों घबरा रहे हैं. उन्होंने कहा कि मैं राष्ट्रपति से गुजारिश करती हूं कि प्रधानमंत्री को तलब करें और नोटबंदी के बाद जनता को हुई परेशानी का समाधान निकालें. इस बीच हंगामे के बाद लोकसभा को गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.

मायावती ने ये भी कहा कि प्रधानमंत्री मोदी संसद आकर विपक्ष की सुनें. उन्होंने आरोप लगाया कि नोटबंदी में गड़बड़झाला हुआ है. उन्होंने कहा कि हम भी काले धन के खिलाफ सरकार के साथ हैं. लेकिन बिना तैयारी के लिया गया ये कदम अगर सोच समझकर लिया जाता तो हम सरकार का समर्थन करते.

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. हमलावर अंदाज में उन्होंने कहा कि विपक्ष की केवल यही मांग है कि पीएम संसद में आकर जवाब दें. वह आ क्यों नहीं रहे हैं. उन्हें किस बात की घबराहट है.

इतना ही नहीं राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने नोटबंदी पर अपने वित्त मंत्री तक से बात नहीं की. ये फैसला वित्त मंत्री का नहीं केवल प्रधानमंत्री का था. उन्होंने जो किया वो बिना तैयारी के किया गया एक सबसे बड़ा वित्तीय परीक्षण था.

वहीं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने नोटबंदी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी प्रधानमंत्री को संसद में उपस्थित होने का निर्देश दें. पहले ऐसे पीएम हैं जो संसद आने से डर रहे हैं.

शीतकालीन सत्र की शुरुआत से नोटबंदी पर विपक्ष के हमले झेल रही मोदी सरकार की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. यूनाइटेड अपोजिशन फ्रन्ट ने बुधवार सुबह 9.30 बजे सांसदों की बैठक के बाद संसद परिसर में महात्मा गांधी के स्टैच्यू के पास विरोध प्रदर्शन किया. इस प्रदर्शन में 12 राजनीतिक पार्टियों के करीब 200 एमपी शामिल हुए.

अनुमान है कि बीएसपी के 7, सपा के 24, कांग्रेस के 95, एनसीपी के 10, टीएमसी के 45, आरजेडी के 6, जेडीयू के 18, वाईएसआर के 12, जेएमएम के 2, डीएमके के 4, सीपीएम के 20, सीपीआई के 1 सांसद प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे. सभी एमपी सुबह 10 बजे प्रदर्शन के लिए पहुंचे.

नोटबंदी पर केंद्रित रहने के लिए सभी पार्टी एक ही झंडे (तिरंगा) का इस्तेमाल करेगी और पार्टियों का अपना-अपना झंडा इस्तेमाल नहीं होगा. सभी पार्टी के सांसद कॉमन नारे भी लगाएंगे. ‘मोदी जी की मन की बात, गरीबों के पेट में लात’ जैसे नारे लगाए जाएंगे. पहले से ही हिन्दी और अंग्रेजी में अलग-अलग नारों को तैयार किया जा रहा है.