काले धन के खिलाफ लंबी लड़ाई में ‘नोटबंदी अंत नहीं’ शुरुआत है : पीएम मोदी

भाजपा संसदीय दल की बैठक में मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि ‘नोटबंदी अंत नहीं’ काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ लंबी, गहरी और निरंतर लड़ाई की शुरुआत है. बता दें कि भाजपा संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के इस फैसले को सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया है.

शीतकालीन सत्र में पहली बार पीएम मोदी ने बीजेपी संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए कहा गरीब, निचले और मध्यम वर्ग के लोगों को काले धन, नकली मुद्रा और भ्रष्टाचार की वजह से सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ रहा था. इसलिए सरकार इन बुराइयों को देश से बाहर निकालने और अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने की दिशा में काम कर रही है.

नोटबंदी के मुद्दे पर राजनीति करते हुए विपक्ष जहां जनता की परेशानियों का हवाला देकर प्रधानमंत्री मोदी को घेरने में जुटा हुआ है. ऐसें में बीजेपी सांसदों ने प्रधानमंत्री का साथ देते हुए सर्वसम्मति से नोटबंदी के इस प्रस्ताव को पारित कर दिया. इस बैठक में प्रतिद्वंद्वी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्ष को तय करना होगा कि वह देश की जनता और सरकार के साथ हैं या फिर कालेधन के जमाखोरों के साथ हैं.

इस दौरान वेंकैया नायडू ने कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रधानमंत्री के इस महान धर्मयुद्ध की जयजयकार है, इसके अलावा उन्होंने विपक्ष पर हिंसा और अराजकता भड़काने और संसद को बाधित करने की कोशिश करने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा कि हम अपने लिए या अपने करीबियों के लिए नहीं बल्कि गरीबों के लिए सत्ता में आये हैं. 70 साल से गरीब, निचले और मध्यम वर्ग के लोगों को काले धन, भ्रष्टाचार और आतंकवाद का सामना करते रहना पड़ा. प्रधानमंत्री मोदी का उद्देश्य इसके खिलाफ एक गहरी लंबी और निरंतर संघर्ष का है. यह अंत नहीं है, केवल हमारे संघर्ष की शुरुआत है.

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने काले धन, आय और प्रकटीकरण योजना, 2016 पर एक एसआईटी की स्थापना जैसे उपायों का आह्वान किया गया है. लोग एक बेहतर भारत के लिए लाइन में लग कर रकम जुटा रहे हैं. संसदीय मामलों के मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि इस कदम से देश और लोगों का लाभ होगा. पीएम मोदी के फैसले ऐतिहासिक निर्णय करार देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी इस कदम के विभिन्न पहलुओं और कैसे इस फैसले से अर्थव्यवस्था में मदद मिलेगी जैसे मुद्दों पर पार्टी के सांसदों को जानकारी दी.