कानपुर रेल हादसे में मरने वालों की संख्या 142 हुई, 36 घंटे बाद सामान्य होगा रेल यातायात

उत्तर प्रदेश में रविवार को कानपुर से लगभग 60 किलोमीटर दूर पुखरायां में इंदौर से पटना जा रही दुर्घटनाग्रस्त हुई इंदौर-पटना एक्सप्रेस में अब तक मृतकों की संख्या 133 हो गई है. कानपुर के एसपी ने ये जानकारी दी. जबकि करीब 60 गंभीर रूप से घायल हैं और 150 लोगों को हल्की चोटें आई हैं. पटरी में दरार की आशंका के चलते ट्रेन के उतरने की आशंका जताई जा रही है.

36 घंटे बाद चलेगी इस पटरी पर रेल
वहीं उत्तर-मध्य रेलवे के महाप्रबंधक अरुण श्रीवास्तव ने कहा कि कानपुर-झांसी रेलमार्ग पर यातायात 36 घंटे में शुरू हो जाएगा. हादसे के बाद से चार ट्रेनें रद्द कर दी गयी हैं और 14 ट्रेनों का रास्ता बदल दिया गया है.

दुर्घटना में जीवित बचे लोगों का एक सुर में कहा था, ‘हमने मौत को बेहद करीब से देखा.’ एनडीआरएफ के महानिदेशक आरके प्रचंड ने बताया कि विशेष बचाव दल की पांच टीमें दुर्घटनास्थल पर भेजी गई हैं. प्रत्येक टीम में 45 कर्मी हैं.

बचाव कार्य में हो रहा कटर का इस्तेमाल
मौके पर पहुंचे प्रचंड ने कहा, ‘बचाव टीमें कटर और हाईड्रोलिक उपकरणों का प्रयोग कर रही हैं ताकि ट्रेन के डिब्बों में फंसे हुए सभी यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला जा सके.’ उन्होंने कहा, चूंकि डिब्बों के भीतर लोग फंसे हुए हैं, इसलिए पूरी सावधानी और सतर्कता बरती जा रही है.