संयुक्त राष्ट्र में मौत की सजा पर वोटिंग, भारत ने विरोध में किया मतदान

संयुक्त राष्ट्र।… भारत ने संयुक्त राष्ट्र में मौत की सजा पर रोक लगाने वाले प्रस्ताव का विरोध किया है. मानवाधिकार मामलों से जुड़ी महासभा की विशेष समिति ने इससे संबंधित प्रस्ताव स्वीकार कर लिया है.

यूएन में भारतीय काउंसलर मयंक जोशी ने कहा कि मौत की सजा पर रोक का प्रस्ताव घरेलू कानून के खिलाफ है. यह कानून बनाने और दंड निर्धारित करने के संप्रभु अधिकार के भी खिलाफ है.

सिंगापुर की ओर से मृत्युदंड पर रोक संबंधी प्रस्ताव का न्यूजीलैंड सहित कुछ अन्य देशों ने समर्थन किया है. भारत के अलावा अमेरिका और अन्य सदस्य इसके विरोध में हैं. महासभा की समिति ने इसे 38 के मुकाबले 115 मतों से स्वीकार कर लिया है. भारत ने इसके विरोध में वोट किया है.

मयंक जोशी ने प्रस्ताव पर बहस के दौरान इसका पुरजोर विरोध किया. उन्होंने समिति को बताया कि भारत में दुर्लभतम मामले में ही मौत की सजा दी जाती है. इससे पहले दोषी को कई स्तरों पर खुद को निर्दोष साबित करने का मौका दिया जाता है. बता दें कि पिछले साल आतंकवादी याकूब मेनन को फांसी पर चढ़ाया गया था.