पाकिस्तान ने फिर दी गीदड़ भभकी, नवाज शरीफ बोले- ‘डराएं नहीं, अपनी जमीन बचाने में सक्षम हैं’

फाइल फोटो

इस्लामाबाद।… प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान भारत की ‘चालों’ से आतंकित नहीं हो सकता और उसके संयम को कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए. शरीफ ने चेतावनी भरे अंदाज में कहा कि उनके देश में किसी भी सैन्य कार्रवाई से अपनी हिफाजत करने की पूरी क्षमता है.

एक दिन पहले ही पाकिस्तान की सेना ने कबूल किया था कि भीमबेर क्षेत्र में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर भारतीय सैनिकों की गोलीबारी में उसके सात जवान मारे गए हैं.

एलओसी पर हालात की समीक्षा के लिए उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते हुए शरीफ ने कहा, ‘पाकिस्तान ऐसी चालों से डर नहीं सकता और हम किसी भी युद्धक स्थिति के खिलाफ अपनी सरजमीं को बचाने में पूरी तरह सक्षम हैं.’

एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबर के अनुसार उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत की गोलीबारी की स्थिति में पूरा संयम बरत रहा है जिसे हमारी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए.

सात पाकिस्तानी जवानों की मौत पर दुख प्रकट करते हुए शरीफ ने कहा कि भारतीय बलों द्वारा एलओसी पर जानबूझकर तनाव बढ़ाने से क्षेत्रीय शांति और सुरक्षा को खतरा है.

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘यह कश्मीर में भारतीयों के अत्याचार से दुनिया का ध्यान हटाने की भारतीय अधिकारियों की व्यर्थ कोशिश भी है.’ शरीफ ने संयुक्त राष्ट्र से मांग की कि एलओसी पर संघर्ष विराम उल्लंघन का संज्ञान लें.

उन्होंने कहा, ‘हमारे सशस्त्र बल गोलीबारी की शुरुआत नहीं करते, लेकिन किसी भी हमले का जवाब मुंहतोड़ तरीके से देंगे.’ सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ ने सोमवार को सैनिकों को आदेश दिया था कि एलओसी पर भारत की गोलीबारी का प्रभावी तरीके से जवाब दिया जाए.

इससे पहले विदेश मामलों पर पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज अजीज ने नवाज शरीफ को बताया कि भारत की ओर से गोलीबारी और गोलेबारी बढ़ गई है. उन्होंने कहा कि गोलीबारी की हालिया घटनाओं में 26 लोगों की मौत हो गई और 107 लोग घायल हो गए. यह 2003 के संघर्ष-विराम समझौते और अंतरराष्ट्रीय कानून का पूरी तरह उल्लंघन है.

शरीफ को हाल ही में हुए अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की पृष्ठभूमि में पाकिस्तान-अमेरिका के संबंधों पर भी जानकारी दी गई. अमेरिका के साथ द्विपक्षीय संबंध मजबूत करने की बात दोहराते हुए शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान और अमेरिका के बीच सात दशकों से मजबूत और रणनीतिक साझेदारी है.

उन्होंने कहा, ‘‘पाकिस्तान, क्षेत्र में और उससे परे शांति, सुरक्षा और समृद्धि के लिए नवनिर्वाचित सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहता है.’ पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जनरल नासिर खान जांजुआ और अन्य सरकारी अधिकारी बैठक में मौजूद थे.