हरिद्वार : कालाधन ले जाए जाने की मिली थी सूचना, गाड़ी की डिग्गी में मिले सवा करोड़, लेकिन…

हरिद्वार जिले के नारसन में तीन वाहनों में भरकर कालाधन ले जाने की सूचना पर पुलिस ने नारसन बॉर्डर पर वाहनों को रोक लिया. चेकिंग के दौरान वाहनों से एक करोड़ 30 लाख रुपये बरामद किए गए.

हालांकि पूछताछ में पता चला कि उक्त राशि यूको बैंक की मेन ब्रांच मेरठ से हरिद्वार और दून शाखा के लिए भेजी गई थी. मंगलौर पुलिस को सोमवार सुबह सूचना मिली कि मेरठ की ओर से तीन प्राइवेट गाड़ियों में कालाधन भरकर नारसन की ओर लाया जा रहा है. इस पर पुलिस ने नारसन बॉर्डर पर मुस्तैदी से चेकिंग शुरू कर दी. मंगलौर सीओ परीक्षित कुमार और एलआईयू की टीम ने भी नारसन चेकपोस्ट पर डेरा डाल दिया.

थोड़ी ही देर में नारसन बॉर्डर चेकपोस्ट पर पकड़ी गई तीनों गाड़ियों में एक करोड़, 30 लाख रुपये बरामद किए गए. पूछताछ में बताया गया कि ये पैसा मेरठ से देहरादून यूको बैंक ले जाया जा रहा था. नोट बक्सों में बंद होने के कारण पुलिस को शक हुआ. इसके बाद पुलिस तीनों गाड़ियों को पकड़ कर चौकी ले आयी और जांच शुरू कर दी.

इस दौरान यूको बैंक के कर्मी विनीत पांडे व एमएस चंदा से पूछताछ के बाद पुलिस संतुष्ट हो गई. इसके बाद नारसन चौकी से अतिरिक्त सुरक्षा बढ़ाकर वाहन को भेजा गया. पुलिस के अनुसार इतनी बड़ी रकम के साथ केवल एक ही गार्ड था.