INDvsENG टेस्ट : पुजारा के बाद मुरली विजय ने भी ठोका शतक, इंग्लैंड को करारा जवाब

टीम इंडिया राजकोट के सौराष्ट्र क्रिकेट स्टेडियम में खेले जा रहे सीरीज के पहले टेस्ट में इंग्लैंड की ओर से पहली पारी में रखे गए 537 रन के विशाल स्कोर के जवाब में कड़ी चुनौती पेश कर रही है. तीसरे दिन के दूसरे ही ओवर में गौतम गंभीर के रूप में पहला विकेट खोने के बाद टीम इंडिया ने चायकाल के बाद 1 विकेट पर 253 रन बना लिए हैं. मुरली विजय (103) और चेतेश्वर पुजारा (105) क्रीज पर हैं. दोनों के बीच 180 से अधिक की साझेदारी हो चुकी है. पुजारा 169 गेंदों में 15 चौकों की मदद से शतक पूरा किया. इससे पहले उन्होंने 74 गेंदों में फिफ्टी बनाई थी. विजय ने शतक बनाने के लिए पुजारा से ज्यादा गेंदें खेलीं और 254 गेंदों में आठवां टेस्ट शतक जड़ा, इससे पहले उन्होंने 125 गेंदों में फिफ्टी पूरी की थी. गंभीर और पुजारा के बीच 68 रनों की साझेदारी हुई. इंग्लैंड ने पहली पारी में 537 रन बनाए हैं. इंग्लैंड के 3 शतक के जवाब में टीम इंडिया ने भी दो शतक जड़ दिए हैं.

पुजारा का यह भारत में लगातार दूसरा और कुल सातवां शतक है, वहीं करियर में उनके 9 शतक हो गए हैं. इससे पहले उन्होंने इंदौर टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ मुश्किल समय पर 101 रनों की नाबाद पारी खेली थी. दरअसल पुजारा इंदौर से पहले शुरुआत तो अच्छी कर रहे थे, लेकिन तीन अंक तक नहीं पहुंच पा रहे थे. राजकोट में उन्होंने चायकाल के बाद तुरंत बाद ही शतक पूरा कर लिया.

टीम इंडिया ने दबाव से उबरते हुए लंच और चायकाल के बीच 66 रन जोड़े. चेतेश्वर पुजारा और मुरली विजय ने सधी हुई बल्लेबाजी की. हालांकि इस बीच किस्मत ने भी उनका साथ दिया, जब कुछ अच्छी गेंदों पर वे बाल-बाल बच गए. विजय को तो एक जीवनदान भी मिला. चाय के लिए जाते समय टीम इंडिया ने एक विकेट पर 228 रन बनाए थे. पुजारा 99, तो विजय 86 रन पर नाबाद लौटे.

टीम इंडिया के लिए तीसरे दिन की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही और उसे दूसरे ही ओवर में तगड़ा झटका लगा, जब गौतम गंभीर गुरुवार के स्कोर में महज एक रन का इजाफा करके 29 रन बनाकर स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंद पर पगबाधा आउट हो गए. उस समय टीम इंडिया का स्कोर 68 रन था. गंभीर के आउट होने पर आए पुजारा ने तेजी से रन बनाने शुरू किए और इस प्रकार उन्होंने गंभीर के विकेट के दबाव को कम करने की कोशिश की. वह इसमें सफल भी रहे और टीम इंडिया का स्कोर 100 पार कर गया. इसके बाद तो मुरली विजय भी लय में आते दिखे. फिर क्या था दोनों ने लंच तक कोई भी विकेट नहीं गिरने दिया और विकेट के चारों ओर शॉट खेले. विजय ने जहां 125 गेंदों में फिफ्टी ठोकी, वहीं पुजारा ने उनसे तेजी से रन बनाए और 74 गेंदों में ही फिफ्टी जड़ दी. लंच तक दोनों ने टीम का स्कोर एक विकेट पर 162 रन तक पहुंचा दिया. अंतिम 10 ओवरों में दोनों बल्लेबाजों ने 4.9 के शानदार औसत से 49 रन बनाए और 94 रन की साझेदारी कर ली.

इंग्लैंड ने भारत के खिलाफ भारतीय धरती पर टेस्ट इतिहास का तीसरा बड़ा स्कोर (537) बनाया है. भारतीय धरती पर उसका सबसे बड़ा स्कोर 7 विकेट पर 652 रन है, जो उसने 1984-85 में चेन्नई में बनाया था. दूसरा बड़ा स्कोर 8 विकेट पर 559 रहा, जो उसने 1963-64 में कानपुर में खड़ा किया था.

इंग्‍लैंड के विशाल स्‍कोर के जवाब में मुरली विजय और गौतम गंभीर की जोड़ी ने विश्‍वास भरी शुरुआत की और दूसरे दिन का खेल खत्‍म होने तक टीम इंडिया को किसी भी क्षति से बचाए रखा. जहां मुरली विजय ने अपने 25 रनों के लिए 70 गेंदों का सामना कर चार चौके जमाए हैं वहीं गौतम गंभीर के 26 रनों (68 गेंद) में चार चौके शामिल हैं.

दूसरे दिन के खेल का आकर्षण मोईन अली और बेन स्टोक्स रहे. जहां बेन स्टोक्स ने लंच के बाद करियर का चौथा टेस्ट शतक ठोका, वहीं मोईन अली ने दिन के पहले ही घंटे में करियर का चौथा टेस्ट शतक (117) लगाया. जो रूट के 124 रन को मिलाकर इंग्लैंड की ओर से 3 शतक लगे. इनके अलावा जॉनी बेयरस्टॉ ने 46 रन, जफर अंसारी ने 32 और पहला टेस्ट खेल रहे हसीब हमीद ने 31 रनों का योगदान दिया. टीम इंडिया की ओर से रवींद्र जडेजा ने 3 विकेट, मोहम्मद शमी, उमेश यादव और आर अश्विन ने 2-2, जबकि अमित मिश्रा ने एक विकेट लिया.

इंग्लैंड ने दूसरे दिन 4 विकेट पर 311 रन से आगे खेलना शुरू किया. बुधवार के नाबाद बल्लेबाज मोईन अली (99) और बेन स्टोक्स (19) ने संभलकर खेलना शुरू किया. स्टोक्स और अली ने 62 रन की साझेदारी करते हुए स्कोर को 343 रन तक पहुंचाया कि तभी मोईन अली को तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने 100वें ओवर में 117 के निजी स्कोर पर बोल्ड कर दिया. अली के बाद स्टोक्स ने जॉनी बेयरस्टॉ के साथ भी शानदार बल्लेबाजी की और उनके साथ 99 रन जोड़े. इंग्लैंड का स्कोर 442 रन तक पहुंचा था कि 121वें ओवर में मोहम्मद शमी ने 46 रन पर खेल रहे जॉनी बेयरस्टॉ को विकेट के पीछे कैच करा दिया. लंच तक इंग्लैंड ने 6 विकेट पर 450 रन बनाए. इसके बाद बेन स्टोक्स ने करियर का चौथा और इंग्लैंड टीम की ओर से मैच का तीसरा शतक लगाया. चायकाल तक इंग्लैंड की टीम स्टोक्स के आउट होने के बाद 537 रनों पर सिमट गई.

पहले दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने 4 विकेट पर 311 रन बनाए थे. मोइन अली (99) और बेन स्टोक्स (19) नाबाद रहे. दिन के खेल का आकर्षण जो रूट (Joe Root) रहे, जिन्होंने 124 रन (11 चौके, 1 छक्का) बनाए. यह एशियाई धरती पर उनका पहला और करियर का दसवां, जबकि भारत के खिलाफ तीसरा शतक रहा. मोईन और रूट के बीच 179 रनों की साझेदारी हुई.

टीम इंडिया की फील्डिंग बेहद खराब रही और उसने ओपनर एलिस्टर कुक (21) और हसीब हमीद (31) दोनों के दो-दो कैच छोड़े. हालांकि दोनों कोई बड़ा स्कोर नहीं बना पाए. टीम इंडिया 5 गेंदबाजों के साथ उतरी, लेकिन उसे इसका कोई खास फायदा नहीं मिला. स्पिनर आर अश्विन ने दो, तो रवींद्र जडेजा और उमेश यादव ने एक-एक विकेट चटकाया.