यूपी चुनाव में किसी से गठबंधन नहीं | 500-1000 के नोट बंद करने का फैसला सही नहीं : मुलायम

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले चुनाव में महागठबंधन की चर्चा पर विराम लगा दिया है. मुलायम सिंह ने साफ कर दिया है कि उनकी पार्टी किसी के साथ गठबंधन नहीं करेगी. सपा अकेले ही चुनाव मैदान में उतरेगी.

लखनऊ में सपा कार्यालय में संवाददाताओं के साथ बातचीत में मुलायम ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में अब समाजवादी पार्टी कोई गठबंधन नहीं करेगी. हम न तो लालू प्रसाद यादव के राष्ट्रीय जनता दल के साथ ही और न ही नीतीश कुमार के जनता दल (युनाइटेड) के साथ गठबंधन करेंगे. उत्तर प्रदेश में सपा अकेले चुनाव लड़ेगी.’

इस अवसर पर सपा के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव भी मौजूद थे. मुलायम ने 500 और 1000 रुपये के नोट को बंद करने के मोदी सरकार के फैसले को लेकर कहा कि इस फैसले से देश में गंभीर संकट पैदा हो गया है.

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 500 तथा 1000 रुपये के नोट को बंद करने का निर्णय ठीक नहीं है. इन दोनों नोट के बंद होने से देश में गंभीर समस्या उत्पन्न हो रही है. सरकार को नोट बंद होने का फैसला कुछ दिनों के लिए वापस ले लेना चाहिए.’

उन्होंने कहा कि पीएम मोदी को यह फैसला लागू करने से पहले जनता को कम से कम एक हफ्ते का समय देना चाहिए. पीएम को यह पता नहीं है कि नोट बंद होने से देश में गंभीर समस्या उत्पन्न हो गई है.

मुलायम सिंह यादव ने बीजेपी की सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि लोगों को छोटी-छोटी चीजें नहीं मिल रही हैं. बीमार लोगों को दवा नहीं मिल रही है. भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को तो बस उत्तर प्रदेश का चुनाव दिख रहा है. मुलायम ने कहा कि बीजेपी को जनता की कोई परवाह नहीं है. ये लोग किसी भी कीमत पर उत्तर प्रदेश के चुनाव में जीत चाहते हैं.

मुलायम ने कहा कि नोट बंद होने से कल एक महिला की सदमे में मौत हो गई. आम जनता को जरूरत का सामान नहीं मिल रहा. देश की पूरी जनता इस समय बेहद परेशान है.

उन्होंने कहा कि बीजेपी ने काला धन वापस लाने का वादा पूरा नहीं किया तो भारत में ही नोट बंद करा दिए. कालाधन को लेकर बीजेपी ने झूठ बोला था. इन लोगों ने कालाधन देश में वापस लाने का वादा किया था.

सपा अध्यक्ष ने कहा, ‘हम भी चाहते हैं कि चुनाव में काला धन न लगे. काला धन की लड़ाई सपा ने लड़ी. काला धन के खिलाफ हम भी हैं. एकाएक मोदी ने नोट बंद किए, यह ठीक नहीं है. नोट बंद होने से सोने के दाम बहुत बढ़े. कल तक सोने का दाम 30 से 45 हजार रुपये तोला हो गया.’