नैनीताल के इस पिछड़े गांव में 12 किमी पैदल चलकर पहली बार पहुंचे डीएम दीपक रावत

नैनीताल जिले में विकासखंड ओखलकांडा की सुदूरवर्ती ग्रामसभा कोटली और कुटपुड़ी में जिलाधिकारी दीपक रावत ने पहुंचकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी. यह पहला मौका था जब ग्रामीणों ने किसी जिलाधिकारी को अपने गांव में देखा.

मुख्य मार्ग से 12 किमी पैदल चलकर डीएम देवगुरु बृहस्पति देव मंदिर पहुंचे और यहां पूजा-अर्चना की. सड़क नहीं होने से ऐसे गांव में कोई अधिकारी भी नहीं जाता है. चुनाव के दौरान नेता तो आते हैं और इसके बाद ऐसे गांवों से वे भी मुंह फेर लेते हैं. कुटपुड़ी गांव भी ऐसा ही गांव है.

जब गांव में पहली बार डीएम पहुंचे तो ग्रामीणों ने उन्हें पेयजल समस्या के बारे में बताया. कहा कि गर्मियों में यह समस्या और विकराल हो जाती है. डीएम ने सतलोटा से वाटर लिफ्टिंग करने की योजना बताई. ग्रामीणों ने डीएम से कहा कि नाई गांव से सौंग पांच किमी का मार्ग अति दुर्गम और क्षतिग्रस्त है, जिससे दुर्घटना की आशंका रहती है. उन्हें समस्या समाधान का आश्वासन दिया गया.

इस मौके पर डीएम ने कहा कि देवगुरु मंदिर समिति के पास मंदिर परिसर के आसपास जो पांच हेक्टेयर भूमि है उसमें चाय बागान को विकसित किया जाएगा. इससे ग्रामीणों की आमदनी के साथ-साथ रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे. जिला पंचायत सदस्य एवं देवगुरु समिति के अध्यक्ष भुवन चंद्र कफल्टिया ने पॉलीथिन उन्मूलन की जानकारी ग्रामीणों को दी.