पूर्व सैनिक द्वारा जंतर मंतर पर सुसाइड, सियासी बवाल । राहुल और मनीष हिरासत में, केजरीवाल को रोका

वन रैंक वन पेंशन (OROP) की मांग को लेकर पूर्व सैनिक द्वारा जंतर मंतर पर सुसाइड करने की घटना के बाद राजनीतिक हलचल भी तेज हो गई है। सुसाइड करने वाले पूर्व सैनिक के परिजनों से मिलने पहुंचे दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पुलिस ने न सिर्फ रोक लिया बल्कि हिरासत में भी ले लिया। वहीं लेडी हार्डिंग पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भी अंदर जाने से रोक दिया गया।

लेडी हार्डिंग जहां पर पूर्व सैनिक रामकिशन के शव का पोस्टमार्टम हो रहा है, वहां केजरीवाल भी पहुंचे। वह परिजनों से मुलाकात करना चाह रहे हैं लेकिन पुलिस ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया है। केजरीवाल ने जब पूछा कि आखिर मैं जनता का चुना हुआ प्रतिनिधि हूं मुझे जाने से क्यों रोका जा रहा है। इसके बाद से उन्हें कोई जवाब नहीं दिया गया और वह पिछले आधे घंटे से लेडी हार्डिंग मोर्चरी के बाहर इंतजार कर रहे हैं।

 

आरएमएल पहुंचे राहुल को भी दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया, फिर छोड़ा

मृतक सैनिक के परिजनों से मिलने आरएमएल पहुंचे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को भी नहीं जाने दिया गया और मंदिर मार्ग थाने ले जाया गया। वहां थाने में वह मांग कर रहे थे कि मृतक के परिजनों को क्यों हिरासत में लिया गया है, मुझे भी गिरफ्तार करो। हालांकि मंदिर मार्ग थाने से उन्हें कुछ देर बाद छोड़ दिया गया।

इस मौके पर राहुल ने कहा, मुझे सैनिक के परिवार से नहीं मिलने दिया गया। ये कैसा हिंदुस्तान बन रहा है? ये कैसा लोकतंत्र है। नया हिंदुस्तान बन रहा है भैया। इस खबर के बाद कांग्रेसियों ने मंदिर मार्ग थाने के बाहर प्रदर्शन शुरू कर दिया है।

एक पूर्व सैनिक केंद्र सरकार की हरकतों की वजह से आत्महत्या कर लेता है और उसके परिवार से बात करने पर मुझे हिरासत में लिया जाता है। हद है! सैनिकों की बहादुरी पर सीना ठोककर अपनी वाहवाही में लगे प्रधानमंत्री जी! आज एक पूर्व सैनिक ने आत्महत्या कर ली है। इसकी जवाबदेही किसकी है? सैनिकों की बहादुरी पर अपनी पीठ ठोकते हो और आपकी वजह से आत्महत्या करने वाले सैनिक के परिवार से मिलने पर हमें गिरफ्तार कर लेते हो? देशभक्ति? दिल्ली का उपमुख्यमंत्री अगर शोकग्रस्त सैनिक परिवार से मिले तो आपकी कानून व्यवस्था का खतरे में पड़ जाती है? ये कौन सी व्यवस्था हैं मोदी जी? मुझे बताया गया है कि धारा 65 के तहत पुलिस बिना कोई कागज़ बनाए 23 घंटे तक हिरासत में रख सकती है।