विश्व प्रसिद्ध बुग्याल ‘फूलों की घाटी’ बंद, अब अगले साल होंगे खूबसूरत फूलों के दर्शन

फूलों की घाटी

विश्व प्रसिद्ध बुग्याल ‘फूलों की घाटी’ सोमवार से पर्यटकों के लिए बंद हो गई, शीतकाल के दौरान यह घाटी पर्यटकों के लिए बंद रहती है. नंदा देवी पार्क प्रशासन ने सोमवार को सर्दियों के ल‌िए फूलों की घाटी को बंद कर दिया.

यूनेस्को की धरोहर में शामिल फूलों की घाटी में इस साल रिकॉर्ड संख्या में पर्यटक पहुंचे. देश-दुनिया से बड़ी संख्या में पर्यटक यहां पहुंचते हैं.

इस बार रिकॉर्ड 9916 देशी और विदेशी पर्यटक फूलों की घाटी के दीदार करने पहुंचे. इस बार पार्क प्रशासन ने कमाई का भी रिकॉर्ड बनाया है.

पर्यटकों के आने से पार्क प्रशासन को 17 लाख 20 हजार छह सौ रुपये की आय हुई. ये अब तक की हुई सबसे ज्यादा आय है. उत्तराखंड के चमोली में जोशीमठ से आगे स्थित फूलों की घाटी अपने विभिन्न प्रजाति के फूलों के लिए दुनिया भर में मशहूर है.

‘फूलों की घाटी’ की खोज 1931 में पर्यटक मैरी ने की थी. 2005 में घाटी में फूलों की घाटी को यूनेस्को की विश्व धरोहर में शामिल किया गया.