सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर के दाम फिर बढ़े, पिछले पांच महीने में छठी बार बढ़ोतरी

अब ई वालेट पर भी ट्रांसफर हो सकेगी सब्सिडी

सरकार ने सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर का दाम मंगलवार को दो रुपये बढ़ा दिए. सब्सिडी बोझ कम करने की योजना के तहत पिछले पांच माह में इसके दाम में यह छठी वृद्धि हुई है. जेट ईंधन का दाम भी 7.3 प्रतिशत बढ़ा दिया गया है. वैश्विक बाजार में दाम बढ़ने के अनुरूप घरेलू बाजार में यह वृद्धि की गई.

वहीं सोमवार को बिना सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडर की कीमत में 37.5 रुपये की बढ़ोतरी हुई. दिल्ली में अब नई कीमत 529.50 रुपये होगी. दिल्ली में घरेलू उपयोग वाले 14.2 किलो के सब्सिडीयुक्त सिलेंडर का दाम अब 428.59 रुपये से बढ़कर 430.64 रुपये हो गया है. इसके साथ ही बिना सब्सिडी वाले गैस सिलेंडर का दाम भी 37.5 रुपये से बढ़कर 529.50 रुपये प्रति सिलेंडर कर दिया गया है.

सरकार प्रत्येक परिवार को साल में 12 सिलेंडर सब्सिडी पर उपलब्ध कराती है. इससे अधिक सिलेंडर की खपत होने पर बिना सब्सिडी वाला सिलेंडर उपलब्ध कराया जाता है, जो कि बाजार दर पर उपलब्ध होता है.

विश्व बाजार में दाम बढ़ने से विमान ईंधन (एटीएफ) का दाम अब दिल्ली में 3,434.25 रुपये यानी 7.33 प्रतिशत बढ़कर 50,260.63 रुपये प्रति किलोलीटर हो गया. 1 अक्तूबर के बाद विमान ईंधन के दाम में यह दूसरी वृद्धि है.

घरेलू रसोई गैस सिलेंडर के दाम में जुलाई के बाद से यह छठी वृद्धि है. सरकार ने सब्सिडी बोझ कम करने के लिए जुलाई में घरेलू गैस सिलेंडर के दाम में हर महीने दो रुपये तक की छोटी-छोटी वृद्धि करने का फैसला किया.

एलपीजी सिलेंडर के दाम में इससे पहले गैस डीलर का कमीशन बढ़ाने के लिए 28 अक्तूबर को 1.5 रुपये प्रति सिलेंडर की अतिरिक्त वृद्धि की गई. इस वृद्धि के साथ दिल्ली में घरेलू गैस सिलेंडर का दाम 428.59 रुपये हो गया.

मासिक वृद्धि के तहत घरेलू सिलेंडर का दाम 1 अक्तूबर को 2.03 रुपये बढ़कर 427.09 रुपये पर पहुंच गया था. इससे एक महीना पहले सितंबर में इसमें 1.97 रुपये, 16 अगस्त को 1.93 रुपये और 1 जुलाई को 1.98 रुपये बढ़ाए गए.

सरकार ने घरेलू गैस सिलेंडर और मिट्टी तेल पर दी जाने वाली सब्सिडी को खत्म करने के लिए हर महीने छोटी-छोटी वृद्धि करने का रास्ता चुना है. पिछली संप्रग सरकार ने भी डीजल के दाम में हर महीने 50 पैसे प्रति लीटर वृद्धि का रास्ता चुना, जिसके बाद नवंबर 2014 से डीजल के दाम बाजार के अनुरूप ही तय होते हैं.

मिट्टी तेल पर दी जाने वाली सब्सिडी को कम करने के लिए सरकार ने यही तरीका अपनाया है. सरकार ने तेल कंपनियों को राशन के मिट्टी तेल का दाम हर पखवाड़े 25 पैसे बढ़ाने की अनुमति दी है. यह वृद्धि 10 महीने तक होती रहेगी. केरोसिन में जुलाई के बाद इस तरह की आठवीं वृद्धि मंगलवार को कर दी गई.

मुंबई में अब एक लीटर केरोसिन का दाम 17.17 रुपए लीटर हो गया. दिल्ली को केरोसिन मुक्त राज्य घोषित कर दिया गया है. दिल्ली में राशन की दुकानों में अब सस्ता केरोसिन नहीं बेचा जाता.

सरकारी तेल कंपनियां विमान ईंधन और रसोई गैस सिलेंडर के दाम हर महीने की पहली तारीख को संशोधित करती हैं. यह दाम विश्व बाजार में इन पेट्रोलियम पदार्थों के दाम और रुपए की विदेशी मुद्रा विनिमय दर के आधार पर तय किए जाते हैं.