अमेरिका : ईमेल जांच मामले में डोनाल्ड ट्रंप ने हिलेरी क्लिंटन पर तेज किया हमला

वाशिंगटन।… हिलेरी क्लिंटन का ईमेल विवाद गहराता जा रहा है, इस बीच डोनाल्ड ट्रंप ने आरोप लगाया है कि पूर्व विदेश मंत्री ने अपनी ‘आपराधिक गतिविधियों’ को जनता की नजरों से छिपाने के उद्देश्य से ‘अवैध सर्वर’ लगवाया था और यह गतिविधि ‘सोच समझकर, जान बूझकर और सउद्देश्य’ की गई थी.

अमेरिकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार ट्रंप ने नेवादा के लास वेगास में कहा, ‘जैसा कि आपने सुना है, शुक्रवार को ही घोषणा की गई है कि एफबीआई हिलेरी की अवैध और आपराधिक गतिविधियों की जांच फिर से शुरू कर रही है. हिलेरी ने अपने लिए कानूनी समस्याएं खुद पैदा की हैं.’

उन्होंने कहा, ‘इस आपराधिक गतिविधि को उन्होंने जानबूझकर, सोच समझकर और सउद्देश्य अंजाम दिया. हिलेरी ने जनता से अपने आपराधिक काम को छिपाने के स्पष्ट उद्देश्य से अवैध सर्वर को स्थापित किया. इस अवैध सर्वर को उन्होंने यह अच्छी तरह जानते-समझते हुए स्थापित किया कि उनके इस काम से राष्ट्रीय सुरक्षा जोखिम में पड़ सकती है और आप लोगों के बच्चों की सुरक्षा भी खतरे में पड़ सकती है.’

ट्रंप ने आरोप लगाया कि कांग्रेस की ओर से सम्मन जारी होने के बाद अपने ‘अपराधों’ को छिपाने के लिए हिलेरी ने 33,000 इमेलों का सफाया कर दिया. ट्रंप ने उन रिपोर्टों का हवाला दिया जिनमें कहा गया है कि एफबीआई को एक लैपटॉप से 6,50,000 मेल मिली हैं जो हिलेरी की करीबी हुमा अबेदीन और उनके अलग हो चुके पति एंथनी वीनर ने उपलब्ध करवाई हैं.

ट्रंप ने कहा, ‘हमने कभी नहीं सोचा था कि हम एंथनी वीनर का शुक्रिया अदा करेंगे. उन्होंने (हिलेरी ने) 13 फोन गायब कर दिए, शपथ लेने के बावजूद कांग्रेस से झूठ बोला, एफबीआई से कई बार झूठ बोला और फिर ईमेल सबूतों से भरे दो बॉक्स रहस्यमयी ढंग से गायब हो गए. इसके अलावा विकीलिक्स ने भी हमारी सरकार में उच्चतम स्तर के आपराधिक भ्रष्टाचार की पोल खोली.’

सर्च वारंट के साथ अब एफबीआई अबेदीन के ईमेल की जांच कर पता लगाएगी कि क्या इनका क्लिंटन के खिलाफ हुई जांच से कोई संबंध है. डेमोक्रेट उम्मीदवार के प्रचार अभियान दल ने अपनी यह मांग दोहराई कि एफबीआई मामले से संबंधी सभी जानकारी जारी करें.

क्लिंटन के प्रतिद्वन्द्वी डोनाल्ड ट्रम्प ने रविवार को कहा था कि इतनी अधिक संख्या में ईमेल का मिलना बड़ी बात हो सकती है. उन्होंने कहा था कि शायद यह ईमेल वह हैं जो गायब हो गए थे. उनका इशारा उन ईमेल की ओर था जो एफबीआई के देखने से पहले सर्वर से डिलीट कर दिए गए थे.