पर्यटकों के लिए राजाजी टाइगर रिजर्व के गेट खोलने की तैयारियां जोरों पर

राजाजी टाइगर रिजर्व की चीला, मोतीचूर, रानीपुर, बेरीवाड़ा और चिल्लावाली रेंज के गेट पर्यटकों के लिए खोलने की तैयारियां शुरू हो गई हैं. सब कुछ ठीक रहा तो पहले से निर्धारित 15 नवंबर को पार्क के गेट सैलानियों के लिए खोल दिए जाएंगे.

एशियाई हाथी की प्रमुख सैरगाह राजाजी टाईगर रिजर्व के गेट सैलानियों के लिए हर साल 15 नवंबर को खोले और 15 जून को बंद किए जाते हैं. इन गेटों में मोतीचूर, चीला, रानीपुर, चिल्लावाली और बेरीवाड़ा रेंज गेट शामिल हैं.

नवंबर से लेकर जून तक हर साल हजारों पर्यटक पार्क में सैर करने आते हैं. यहां एशियाई हाथी के अलावा, बाघ, हिरण की विभिन्न प्रजातियां, मोर, कई प्रकार के सरीसृप, रंग-बिरंगे देशी और विदेशी पक्षी सैलानियों को लुभाते हैं.

एक बार फिर पार्क प्रशासन पार्क को सैलानियों के लिए खोलने की तैयारी में जुट गया है. ट्रैक की मरम्मत में की जा रही है. बरसात के कारण क्षतिग्रस्त हुए मार्गों की मरम्मत का काम किया जा रहा है.

चीला के रेंज अधिकारी सुभाष घिल्डियाल ने बताया कि ज्यादातर ट्रैक की मरम्मत कर ली गई है, कुछ जगहों पर पुश्ते आदि लगाने का काम चल रहा है. पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं दिए जाने की कोशिश होगी. वहीं मोतीचूर रेंज रेंजर महेंद्र गिरि गोस्वामी ने बताया कि सभी सड़के दुरुस्त करने का काम तेजी से चल रहा है.