फख्र की बात : खुले में शौच से मुक्त हुआ नैनीताल जिले का भीमताल विकास खण्ड

नैनीताल ‘स्वच्छ भारत मिशन’ के अन्तर्गत जिले का भीमताल विकास खण्ड खुले में शौच से मुक्त हो गया है. इससे पूर्व विकास खंड बेतालघाट, रामगढ़ इस अभिशाप से मुक्त हो चुके हैं. भीमताल विकास भवन सभागार में ब्लॉक प्रमुख गीता बिष्ट द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में जिलाधिकारी दीपक रावत द्वारा विकास खण्ड में पचास ग्राम प्रधानों को प्रशस्ति पत्र एव उपहार देकर सम्मानित किया गया.

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में डीएम दीपक रावत ने कहा कि भीमताल विकास खण्ड के लिए इससे सुन्दर दीपावली का तोहफा और कोई नहीं हो सकता. उन्होंने दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि स्वच्छता ही दीपावली का संदेश है.

उन्होंने कहा, विकास खण्ड के ग्राम प्रधानों ने इस कार्य में जो नेतृत्व किया है, प्रशंसनीय है, जनप्रतिनिधियों एवं सरकारी मशीनरी का यह संयुक्त प्रयासों से प्राप्त यह अच्छी उपलब्धि है. उन्होंने कहा कि खुले में शौच हमारे जीवन का अभिशाप है. खुले मे शौच जाने से जल एव वायु प्रदूषण बडे पैमाने पर होता है. इससे डायरिया जैसी संक्रामक बीमारियां होना लाजमी है. विगत काफी समय से पर्वतीय क्षेत्रों में डायरिया की समस्या बढ़ी है.

उन्होंने कहा कि शौचालय बनना अलग बात है, लेकिन शौचालय की आदत डालने की हमें इच्छा शक्ति पैदा करनी होगी, तभी इस मिशन का उद्देश्य पूरा होगा. उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य है कि जिले के शेष विकास खण्ड भी इस अभिशाप से अवमुक्त हो जांए.

open-defecation

अपने सम्बोधन में ब्लॉक प्रमुख गीता बिष्ट ने कहा कि सुरक्षित शौच सभी के लिए जरूरी है. इस व्यवस्था से महिलाओं को सुरक्षा मिलेगी तो वहीं वह बीमारियों से भी मुक्त होंगी. उन्होंने कहा कि विकास खण्ड के 2109 परिवार तथा 65 ग्राम पंचायतों को शत-प्रतिशत इस योजना से आच्छादित कर दिया गया है.

अपने संबोधन में जिला पंचायत सदस्य डॉ. हरीश बिष्ट ने कहा कि इस योजना के क्रियान्वयन में स्यूडा, भूमियाधार ग्रामीण क्षेत्रों में काफी कठिनाई आई लेकिन ग्रामवासियों को प्रेरित कर योजना से जोड़ा गया. यह योजना काफी लाभदायक है. कार्यक्रम का संचालन परियोजना अधिकारी स्वजल प्रदीप तिवारी द्वारा किया गया.

– Us Sizwalee