गिरफ्तारी से बचते हुए किसी भी तरह से 2 नवंबर को इस्लामाबाद पहुंचे कार्यकर्ता : इमरान खान

लाहौर।… पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के 600 से अधिक कार्यकर्ताओं को पंजाब प्रांत के विभिन्न हिस्सों में हिरासत में लिए जाने के बीच पार्टी प्रमुख इमरान खान ने अपने कार्यकर्ताओं से गिरफ्तारी से बचने और नवाज शरीफ सरकार से आखिरी जोर आजमाइश के लिए 2 नवंबर को इस्लामाबाद पहुंचने को कहा है.

क्रिकेटर से नेता बने इमरान खान ने पार्टी समर्थकों को समूहों में सफर करने और रैली स्थल पर पहुंचने के लिए मुख्य मार्ग की बजाय छिपे रास्तों का इस्तेमाल करने की सलाह दी. इससे पहले, पार्टी ने शनिवार को इस्लामाबाद और देश के अन्य हिस्सों में विभिन्न रैलियों की योजना बनाई, ताकि लोगों को इस्लामाबाद पहुंचने के लिए प्रेरित किया जा सके.

पार्टी कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच इस्लामाबाद और रावलपिंडी में झड़पों के एक दिन बाद पंजाब पुलिस ने पेशावर-इस्लामाबाद मोटरवे और अटक ब्रिज को कंटेनर से बंद कर दिया है. इसके पीछे यह मकसद है कि पार्टी कार्यकर्ताओं को 2 नवंबर को राजधानी पहुंचने से रोका जा सके, जब इमरान खान और उनके समर्थकों के देश के बाकी हिस्सों से पहुंचने की योजना है.

इमरान ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को या तो इस्तीफा देने या पनामा पेपर्स खुलासे को लेकर जवाबदेही के लिए उन्हें खुद को पेश करने को कहा है. उन्होंने कहा, ‘यह नवाज शरीफ की तानाशाही है, लोकतंत्र नहीं है. हम नवाज शरीफ को 2 नवंबर को दिखा देंगे कि लोकतंत्र क्या है.’ पार्टी नेता और पंजाब विधानसभा में विपक्षी नेता मेहमदूर राशिद ने कहा कि पुलिस ने केवल पंजाब में ही 600 से अधिक पार्टी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है.