हल्द्वानी : मुख्यमंत्री के पैर पकड़कर गिड़गिड़ाने लगी महिला, देखने वाले सन्न, अधिकारी परेशान

मुख्यमंत्री हरीश रावत उस समय असहज दिखे, जब हल्द्वानी में भरी सभा के बीच एक महिला मदद की गुहार लगाते हुए उनके पैरों में गिर गई. वन भूमि के पेच के कारण स्कूलों को ग्रांट न मिलने से आहत महिला ने एफटीआई में मुख्यमंत्री के पांव पकड़ लिए.

महिला मुख्यमंत्री के पांव पकड़कर बिलखने लगी. सीएम के पैरों पर महिला को बैठा देख अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए. महिला ने स्थानीय विधायक एवं श्रम मंत्री हरीश दुर्गापाल को भी आड़े हाथों लिया.

एफटीआई ग्राउंड में मुख्यमंत्री हरीश रावत आण-काथ क्विज प्रतियोगिता देख रहे थे. बिंदुखत्ता निवासी उमा पांडे अचानक मुख्यमंत्री रावत के पास पहुंची और उनके पैर पकड़ लिए. उमा उनके पैरों पर सिर रखकर रोने लगी.

उमा ने कहा कि बिंदुखत्ता में आदर्श इंटर कॉलेज, जनता उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, हाट कालिका इंटर कॉलेज, चित्रकूट उच्चतर माध्यमिक स्कूल, दानू मांटेसरी स्कूल, मानवता उच्चतर माध्यमिक स्कूल को अनुदान नहीं मिल रहा है. पिछले 13 साल से पांच हजार रुपये के मानदेय पर हाट कालिका इंटर कॉलेज में काम कर रही हैं.

महिला ने बताया कि वन विभाग के पेच के कारण सरकारी ग्रांट नहीं मिल पा रही है, जबकि अन्य कई भवन बने और वन विभाग का पेच हट गया. कहा कि स्थानीय विधायक एवं श्रम मंत्री हरीश दुर्गापाल तो वोट मांगने के समय हाथ जोड़कर दिखते हैं. कई बार जाने के बाद भी उन्होंने एक नहीं सुनी.

उमा काफी देर तक सीएम रावत के पांव पकड़े रही. उमा को हटाने के लिए महिला पुलिसकर्मियों ने काफी कोशिश की, लेकिन असफल रहीं. इस दौरान अधिकारी काफी परेशान दिखे. सीएम के आश्वासन देने के बाद ही उमा ने पांव छोड़े.