CM हरीश रावत ने केदारघाटी में मिले नरकंकालों का अंतिम संस्कार कर आस्थियां गंगा में विसर्जित कीं

केदारनाथ क्षेत्र के आसपास में मिले नर कंकालों की अस्थियां मुख्यमंत्री हरीश रावत और एसडीआरएफ के अधिकारियों ने बुधवार देर शाम हरकी पैड़ी पर गंगा में विसर्जित की. इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार लापता लोगों की तलाश के लिए पूरी तरह गंभीर है. शवों की तलाश का काम लगातार जारी रखा जाएगा. डीएनए टेस्ट कराकर यदि सफलता मिलती है तो मृतकों के परिजनों से भी संपर्क करने का प्रयास किया जाएगा.

बुधवार शाम करीब छह बजे एसडीआरएफ के कई अधिकारी और जवान पुलिस आईजी संजय गुंज्याल व सेनानायक जगतराम जोशी की अगुवाई में पचास लोगों के अस्थि कलश लेकर हरकी पैड़ी पहुंचे.

जब मुख्यमंत्री हरिद्वार पहुंचे तो गंगा आरती चल रही थी. मुख्यमंत्री ने भी गंगा आरती में भाग लिया और आरती संपन्न हो जाने के बाद विधि विधान से अस्थियों को गंगा में विसर्जित किया.

अस्थि विसर्जन के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि आपदा के दौरान लापता हुए लोगों की तलाश के लिए उनकी सरकार पूरी तरह गंभीर है.

उन्होंने कहा कि सरकार ने कई रास्ते ईजाद किए जिस कारण ये नर कंकाल मिल रहे हैं. हरसंभव प्रयास किया जाएगा कि जो कोई भी लोग लापता हैं उनका पता चला सके, क्योंकि जो लोग उत्तराखंड आए वे हमारे भरोसे पर आए थे.