2017 में चुनाव जीता तो भांग की खेती को बढ़ावा दूंगा : हरीश रावत

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा है कि यदि वे चुनाव जीतकर आते हैं तो भांग की खेती को बढ़ावा देंगे, ताकि उत्तराखंड की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा दिया जा सके.

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने रविवार को गुप्तकाशी पहुंचकर आपदा पीड़ित परिवारों का दुख-दर्द सुना और उनके साथ कुछ पल बिताए. मुख्यमंत्री ने कहा कि में आपदा पीड़ितों के आसुओं की भरपाई तो नहीं कर सकते, लेकिन हम सब मिलकर उनकी पीड़ा में हाथ जरूर बंटा सकते हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि केदारघाटी में सामाजिक आर्थिक, मनोवैज्ञानिक पहलू पर विस्तृत कार्य योजना की जरूरत है. इसके लिए महिला आयोग के नेतृत्व में तीन सदस्यीय कमेटी बनेगी, जो अगले 10 सालों तक इन तथ्यों पर कार्य करेगी. राज्य में पथ प्रदर्शकों के लिए हर साल 9 नवम्बर को उत्तराखंड मित्र पुरुस्कार दिया जाएगा. इस साल के लिए डॉ. जेक्शवीन को इस पुरस्कार के लिए मुख्यमंत्री ने चुना है.

मुख्यमंत्री ने निर्धन बच्चों के उत्थान के लिए एक करोड़ रुपये के रिवॉल्विंग फंड की घोषणा की, जिसे अगले साल से पांच करोड़ किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने गुप्तकाशी को नगर पंचायत का दर्जा दिया. साथ ही मननी धाम के लिए चौमासी से मननी होते हुए रांशी तक पैदल ट्रैक की घोषणा की.

कर्यक्रम में मौजूद जेक्शवीन स्कूल के बच्चों को मुख्यमंत्री ने अपनी सैलरी से 5000 रुपया देने की घोषणा की. मुख्यमंत्री ने कहा कि रुद्रप्रयाग और चंपावत जिले दुग्ध उत्पादन के लिए मदर जिलों के रूप में विकसित किए जाएंगे.

रामदाना को यूरोप के बाजारों में पहुंचाया जाएगा. मुख्यमंत्री ने कहा कि 2018 तक राज्य के सभी गांव को सड़क मार्ग से जोड़ा जाएगा. उन्होंने कहा कि 2017 में वापसी होगी तो भांग की खेती पर जोर दिया जाएगा. भांग के जरिए प्रदेश की अर्थव्यवस्था को दुरुस्त किया जाएगा.

मुख्यमंत्री ने पूर्व बागी विधायक शैला रानी रावत द्वारा केदारनाथ विधानसभा से चुनाव लड़ने की चुनौती वाले बयान पर भी चुटकी लेते हुए कहा कि बहनों को चुनौती नहीं देता हूं, बल्कि मदद करने वाला भाई हूं.