भावुक अखिलेश यादव की इस्तीफे की पेशकश, अमर सिंह पर लगाया गंभीर आरोप

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के भीतर घमासान के बीच सोमवार सुबह सपा दफ्तर में महाबैठक शुरू हो हुई. मुलायम सिंह की मौजूदगी में बैठक को संबोधित करते हुए अखिलेश भावुक हो गए. उन्होंने कहा कि यदि नेताजी को लगता है कि मैं ठीक काम नहीं कर रहा हूं और मैं गलत हूं तो बेशक मैं मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दूंगा.

अखिलेश ने कहा, ‘यदि नेताजी चाहते हैं कि मैं मुख्यमंत्री न रहूं तो मैं इस्तीफा देने को तैयार हूं. लेकिन एक बात बता देना चाहता हूं कि आपके खिलाफ साजिश हो रही है और मैं उसे सफल नही होने दूंगा.’

अखिलेश ने खुले तौर पर अमर सिंह का नाम लेते हुए कहा कि सारी फसाद की जड़ वही हैं. उन्होंने कहा, ‘जब मुझे प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाया गया तो अमर सिंह आपके यहां तीन घंटें तक बैठे रहे. आप एक बार कहते तो मैं प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देता.’

‘नेताजी मेरे पिता ही नहीं, राजनीतिक गुरु भी’
मुख्यमंत्री ने कहा कि नेताजी मेरे पिता ही नही गुरु भी हैं. उन्होंने मुझे राजनीति सिखाई है. हमारे खिलाफ लोग साजिश करने में जुटे हुए हैं.

उल्लेखनीय है कि महाबैठक को संबोधित करते हुए अखिलेश का गला भर आया. इस बैठक में मुलायम के अलावा शिवपाल सिंह यादव सहित सभी विधायक, एमएलसी भी मौजूद हैं.

‘बढ़-चढ़ कर बातें न करें, एक लाठी नहीं झेल सकते’
मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को महाबैठक में कहा कि शिवपाल यादव बड़े नेता हैं. उन्होंने कहा, मैं पार्टी में टकराव से दुखी हूं. लोहिया जी के दिखाए मार्ग पर आगे चलें. उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो हम जेल जाने से भी पीछे नहीं हटे. पार्टी बनाने के लिए बहुत संघर्ष किया. साथ ही उन्होंने पार्टी नेताओं को हिदायत दी कि ज्यादा बढ़-चढ़कर बातें न करें. जो उछल रहे हैं, वे एक भी लाठी नहीं झेल सकते.

‘पद मिलते ही कुछ लोगों का दिमाग खराब हो गया’
मुलायम ने आगे कहा कि हमें अपनी कमजोरियां दूर करनी चाहिए. हम कमजोरी दूर करने की बजाय लड़ने लगे. मुलायम सिंह यादव ने कहा कि युवाओं को मैंने टिकट दिया. ऐसा नहीं है कि युवा मेरे साथ नहीं हैं.

मुलायम सिंह यादव ने इशारों में साफ कहा कि पद मिलते ही दिमाग खराब हो गया. अगर आलोचना सही है तो सुधरने की जरूरत है. कुछ नेता केवल चापलूस हैं. नारेबाजी करने वाले बाहर होंगे. उन्होंने कहा कि मैं पीएम बन सकता था, लेकिन समझौता नहीं किया.