लद्दाख में भारत के साथ संयुक्त सैन्य अभ्यास किसी देश के खिलाफ लक्षित नहीं : चीन

बीजिंग।… चीन ने जम्मू एवं कश्मीर के पूर्वी लद्दाख में पहले चीन-भारत संयुक्त सैन्य अभ्यास को ‘सामान्य विनिमय’ करार दिया और कहा कि यह अभ्यास किसी तीसरे देश के खिलाफ लक्षित नहीं था और न ही इसका कश्मीर मुद्दे पर चीन के रुख से कोई लेना देना है.

चीन के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, ‘मैं इस बात की ओर संकेत करना चाहूंगी कि यह गतिविधि चीन और भारत के सीमा पर तैनात रहने वाले सैनिकों के बीच सीमा संबंधी मामलों से सही तरह से निपटने के लिए किया जाने वाला सामान्य आदान-प्रदान है.’

उन्होंने अभ्यास पर बीजिंग की राय के बारे में पूछे गए सवाल के लिखित जवाब में कहा, ‘इसमें किसी तीसरे देश को निशाना नहीं बनाया गया और न ही इसका कश्मीर मुद्दे पर चीन के रुख से कोई लेना-देना है.’

उरी आतंकी हमले और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारतीय सेना के लक्षित हमलों के बाद भारत और पाकिस्तान में तनाव के बीच पूर्वी लद्दाख में 19 अक्टूबर को संयुक्त सैन्य अभ्यास किया गया था.

यह एनएसजी में भारत की सदस्यता के प्रयासों और जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंध को लागू करने के प्रयासों को बीजिंग द्वारा बाधित करने के संबंध में भारत और चीन की कूटनीतिक युक्तियों के बीच भी आयोजित किया गया था.