मुख्य विकास अधिकारी ने विकास खंड धारी में किया औचक निरीक्षण, अनुपस्थित कर्मियों की सैलरी रोकी

मुख्य विकास अधिकारी ने विकास खंड धारी में गुरुवार सुबह 10.20 बजे औचक निरिक्षण किया. निरिक्षण के दौरान संगीता आर्या खंड विकास अधिकारी धारी, आर.एस. बिष्ट सहायक खंडविकास अधिकारी एंव विकास खंड के कई अन्य कर्मी उपस्थित थे. सुरेष चन्द्र आर्या सहायक खंड विकास अधिकारी एंव द्वारिका प्रसाद खुल्बे अपर असिस्टेंट इंजीनियर ग्रामीण लोक निर्माण विभाग धारी कार्यालय से अनुपस्थित पाए गए. खंड विकास अधिकारी धारी को निर्देश दिए गए कि संबंधितों का उक्त तिथि का वेतन अधोहस्ताक्षरी की पूर्वानुमति प्राप्त किए बिना जारी न किया जाए.

कार्यालय परिसर के निरीक्षण के दौरान खंड विकास अधिकारी को निर्देश दिये गए कि विकास खंड में व्याप्त अनियमितताओं को तत्काल दूर करने के लिए वह विकास खंड परिसर में निर्मित शासकीय आवास में अक्टूबर 2016 के अन्त तक स्वयं रहते हुए सभी शासकीय कार्मियों के शासकीय आवासीय भवनों में प्रवास एवं विकास खंड मुख्यालय में रहने के निर्देश देना सुनिश्चित करें.

स्वच्छता अभ्यिान की समीक्षा करने पर यह तथ्य सामने आया कि ग्राम पंचायत देवनगर सलियाकोट तथा दीनी तल्ली के अभी 38 ऐसे लाभार्थी हैं, जिनका शौचालय निर्माण कार्य शुरू नहीं हुआ है. खण्ड विकास अधिकारी द्वारा इन सभी 38 लाभार्थिओं के शौचालय निर्माण कार्य को दिनाकं 25 अक्टूबर 2016 तक हर हालत में शुरू कराने का आश्वासन दिया गया. खंड विकास अधिकारी को निर्देश दिए गए कि इन ग्राम पंचायतों के प्रभारी ग्राम विकास अधिकारी का अक्टूबर 2016 वेतन दिंनाक 25.10.2016 तक शत प्रतिशत शौचालय में निर्माण कार्य प्रारम्भ किए जाने कि शर्त पर निकाला जाए.

संयुक्त चिकित्सालय पदमपुरी का निरीक्षण किया गया, जिसमें प्रभारी चिकित्साधिकरी सहित अन्य स्टाफ उपस्थित रहे. जन प्रतिनिधियों से वार्ता के दौरान अवगत कराया गया कि अस्पताल में एक्स-रे मशीन खराब है और अस्पताल में रेडियोलॉजिस्ट नियुक्ति न होने एंव प्रयोगशाला में लैब टेस्ट की सुविधा न होने के कारण पर्वतीय क्षेत्रों के रोगियों के इलाज के लिए हल्द्वानी को रेफर किया जा रहा है.

इस पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी नैनीताल को निर्देशित किया गया कि वे रेफर मामले पर तत्काल जनहित में प्रभावी कार्यवाही करना सुनिश्चित करें.