जैनसार बावर : त्यूनी अस्पताल में डॉक्टर नहीं, दूसरे हॉस्पिटल ले जाते समय महिला ने रास्ते में दम तोड़ा

देहरादून जिले के जनजीताय क्षेत्र जौनसार बावर में एक बार फिर से स्वास्थ्य विभाग की पोल खुल गई है. जहां अस्पताल में सही इलाज न मिलने से महिला ने हायर सेंटर जाते समय रास्ते में ही दम तोड़ दिया. यह मामला सीमांत तहसील त्यूनी के बगूर गांव का है.

दरअसल, त्यूनी तहसील के बगूर गांव निवासी 37 वर्षीय फूली देवी पत्नी अर्जुन दास पिछले तीन दिनों से बुखार से पीड़ित थी. उन्हें सांस लेने में भी दिक्कत हो रही थी. मंगलवार रात फूली देवी का स्वास्थ्य अचानक ज्यादा खराब हो गया. जिस पर परिजन उसे निजी वाहन से प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र त्यूनी लेकर पहुंचे.

बताया जा रहा है कि अस्पताल में डॉक्टर न होने पर फार्मासिस्ट ने महिला को ग्लूकोज की ड्रिप लगाने के साथ कुछ इंजेक्शन लगाए, लेकिन महिला की स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ. जिस पर उसे अस्पताल से रेफर कर दिया गया.

परिजन महिला को इलाज के लिए 108 एंबुलेंस से रोहड़ू लेकर जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही महिला ने दम तोड़ दिया. मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) वाईएस थपलियाल ने बताया कि त्यूनी में तैनात डॉक्टर पिछले कई दिनों से लापरवाही कर रहा है. मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हैं, वैकल्पिक तौर पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र विकासनगर से एक डॉक्टर को भेजने के आदेश दिए गए हैं.