केदारनाथ मंदिर के पास 2013 आपदा के 31 नरकंकाल मिले : उत्तराखंड सरकार

उत्तराखंड सरकार ने सोमवार को स्वीकार किया कि केदारनाथ मंदिर के आसपास से कई नरकंकाल बरामद हुए हैं. यह कंकाल उन लोगों के हैं जो साल 2013 में भारी बारिश और अचानक आई बाढ़ के कारण अपनी जान गंवा बैठे थे. मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पुष्टि की कि 31 नरकंकाल मिले थे, जिनमें 23 की अंत्येष्टि कर दी गई.

यह दिल दहलाने वाली खोज केदारनाथ मार्ग पर त्रियुगीनारायण में की गई थी. यह स्थल साल 2013 में भारी बारिश और अचानक आई बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुआ था. उन्होंने कहा कि फॉरेंसिक जांच के लिए कंकाल के डीएनए सुरक्षित रख लिए गए हैं और बाद में पहचान की जाएगी.

केदारनाथ क्षेत्र में अनेक नर कंकाल मिलने की अपुष्ट रिपोर्ट के बाद यह रहस्योद्घाटन किया गया है. अधिकारियों को आशंका है कि नरकंकाल उन श्रद्धालुओं के हैं जो केदारनाथ के ऊपर बादल फटने के बाद उफनती नदी को देख ऊंचाई पर शरण लेने के लिए भागे थे, लेकिन भोजन और पानी के अभाव में उनकी मौत हो गई.

एक अधिकारी ने कहा कि शेष 8 नरकंकालों की अंत्येष्टि मंगलवार को होगी. मुख्यमंत्री रावत ने और नरकंकाल की खोज के लिए अधिकारियों को अगले कुछ दिनों तक क्षेत्र में सघन तलाशी अभियान चलाने का निर्देश दिया हैं.

अधिकारियों के अनुसार, त्रियुगीनारायण क्षेत्र में 31 नरकंकालों का मिलना संकेत देता है कि इस क्षेत्र में और नरकंकाल दफन हो सकते हैं. आपदा में हजारों श्रद्धालुओं की मौत हो गई थी और सैकड़ों लापता हो गए थे. उस समय छोटा तलाशी अभियान चलाया गया था, लेकिन सफलता नहीं मिली थी. कई परिवारों ने अपने स्तर से भी तलाशी अभियान चलाए थे, मगर कोई खास सफलता हासिल नहीं हुई थी.