वाराणसी: जय गुरुदेव के समागम में मची भगदड़, 24 की मौत

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के चंदौली और वाराणसी जिले की सीमा पर बाबा जयगुरुदेव जयंती पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान परिक्रमा कर रहे श्रद्धालुओं में मची भगदड़ में 24 लोगों की मौत हो गई तथा कई अन्य घायल हो गए. यह भगदड़ तक मची जब एक धार्मिक नेता के हजारों श्रद्धालु जल्‍दबाजी में एकाएक साथ पुल करने की कोशिश करने लगे.

जिलाधिकारी कुमार प्रशांत ने बताया कि चंदौली जिले में गंगा के किनारे डोमरी गांव में बाबा जयगुरुदेव की याद में आयोजित दो दिवसीय जागरूकता शिविर में आए बड़ी संख्या में श्रद्धालु वाराणसी स्थित पीली कोठी से होते हुए डोमरी गांव जा रहे थे. रास्ते में राजघाट पुल पर अचानक भगदड़ मच गई. प्रशासन को उम्‍मीद करीब 4,000 लोगों के आने की थी, लेकिन लगभग 50,000 कथित तौर पर यहां आए थे.

पुलिस प्रमुख जावेद अहमद ने बताया कि एक आदमी बढ़ती भीड़ के कारण घुटन से मर गया, इससे और ज्‍यादा दहशत फैल गई. उन्‍होंने कहा कि हम भीड़ प्रबंधन की जांच कर रहे हैं और इसके लिए जिम्‍मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. संप्रदाय का दावा है कि उन्‍होंने पुलिस को आगाह किया था कि अधिक लोग आ सकते हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर अफसोस जताते हुए संवेदनाएं प्रकट की हैं.उन्होंने कहा है कि स्थानीय प्रशासन को इससे प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता मुहैया कराने को कहा गया है. पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “वाराणसी में भगदड़ में लोगों की मौत पर गहरा दुख हुआ है. शोकसंतप्त परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदना. जो घायल हैं, उनके लिए प्रार्थना.”