अमित शाह ने मायावती और अखिलेश पर जमकर निशाना साधा, बीजेपी के लिए मांगा समर्थन

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह

बीएसपी सुप्रीमो मायावती को दलित हितैषी नहीं, बल्कि दलितों के नाम पर अपना धन बढ़ाने वाली बताते हुए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि दलितों का कल्याण मायावती नहीं बल्कि सिर्फ बीजेपी कर सकती है.

उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) पर चुटकी लेते हुए अमित शाह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से अपना कुनबा तो संभल नहीं रहा, वह राज्य क्या संभालेंगे.

अमित शाह ने शुक्रवार को कानपुर के ब्रजेंद्र स्वरूप पार्क में धम्म चेतना यात्रा के समापन पर जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर के सम्मान में जितना काम बीजेपी सरकार ने किया, उतना अन्य किसी ने नहीं. फिर चाहे वह अंबेडकर की जन्मभूमि का उद्धार करना हो, उनको भारतरत्न सम्मान देना हो, उनपर डाक टिकट, सिक्का जारी करना हो… बाबा साहेब और उनके अनुयायियों की भावनाओं पर सिर्फ बीजेपी ने ध्यान दिया है. यदि बीजेपी उत्तर प्रदेश में अगली सरकार बनाती है तो सबका साथ सबका विकास की तर्ज पर दलितों को उनका हक दिलाएगी.

भगवान बुद्ध के प्रथम उपदेश स्थल सारनाथ वाराणसी से 24 अप्रैल 2016 को भदंत डॉ. धम्म वीरियो जी के नेतृत्व में चली यह धम्म चेतना यात्रा शुक्रवार को कानपुर में संपन्न हुई. यात्रा के समापन में सैकड़ों बौद्ध भिक्षु शामिल हुए.

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि जब काशीराम और मायावती ने बसपा की स्थापना की थी, तब डॉ. धम्म वीरियो ने मायावती को आाशीर्वाद दिया था, इसलिए उनकी सरकार बनी. लेकिन उन्हें आशीर्वाद देने वाले भिक्षु अब दुखी हैं, क्योंकि मायावती ने बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के सपनों को पूरा नहीं किया.

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में बीएसपी की सरकार बनने पर आशा की गई थी कि वह दलितों और पिछड़ों का कल्याण करेंगी, भगवान बुद्ध और अंबेडकर के विचारों तथा सपनों को साकार करेंगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। मायावती की संपत्ति दिनों-दिन बढ़ती गई, लेकिन दलित पिछड़ा और भदंत वहीं का वहीं रह गया. मायावती को आशीर्वाद देकर उनकी सरकार बनवाने वाले भदंत अब बीजेपी का समर्थन कर रहे हैं. उन्हें ज्ञात है कि बीजेपी की सरकार बनने पर दलित, पिछड़ा, भदंत सबका कल्याण होगा.

अमित शाह ने कहा कि बहन मायावती अंबेडकर के आदर्शों पर चलने की बात कहती हैं, लेकिन उन्होंने 10 साल तक केन्द्र की कांग्रेस नीत यूपीए सरकार को समर्थन दिया. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने जिस राज्य में सरकार बनायी वहां बाबा साहेब को पूरा सम्मान दिया गया. उन्होंने कहा कि अंबेडकर के जन्मस्थल महू, लंदन, वड़ोदरा, नागपुर दिल्ली हर जगह बीजेपी ने ही काम करवाया, कांग्रेस या बसपा ने कुछ नहीं किया.

प्रदेश में सपा की सरकार ने दलितों को प्रताड़ित किया बसपा ने उनका शोषण किया. यदि प्रदेश में बीजेपी की सरकार आई तो सबका साथ सबका विकास के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मिशन के तहत दलित, पिछड़ा सहित सबका कल्याण किया जाएगा. इसके लिए प्रधानमंत्री ने कई योजनाएं भी शुरू की हैं.

अमित शाह ने प्रदेश की सपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि फरवरी में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं, लेकिन अखिलेश यादव से कानून व्यवस्था संभल नहीं पा रही. ‘अखिलेश पहले अपने कुनबे की कानून व्यवस्था सुधार लें, जो उनसे संभल नहीं पा रही है बाद में प्रदेश की काननू व्यवस्था भी देख लें. उनसे घर के झगड़े निपटते नहीं हैं उत्तर प्रदेश की समस्याओं को कैसे हल करेंगे.’

उन्होंने कहा, मायावती कहती हैं कि वह सत्ता में आयीं तो कानून-व्यवस्था सुधरेगी, हम कह रहे हैं कि अपनी संपत्ति घोषित करें दलित समझ जाएंगे कि उनका कितना कल्याण हुआ है. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि मोदी की योजनाओं के केन्द्र में हमेशा दलित और गरीब ही हैं. जनधन, बीमा योजना, उज्ज्वला योजना सब गरीबों के लिए ही हैं.

अमित शाह ने कहा कि राज्य में परिवर्तन धम्म यात्रा आज समाप्त नहीं हो रही है, यह चुनाव तक जारी रहेगी. इससे पहले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य ने भी जनसभा को संबोधित किया. जनसभा में ऑल इंडिया भिक्षु संघ के लोक संघ नायक डॉ. धम्म वीरियो के अलावा केंद्रीय मंत्री निरंजन ज्योति, सांसद देवेंद्र सिंह भोले सहित बीजेपी के बहुत से वरिष्ठ नेता मौजूद थे.