अब कांग्रेस और AAP को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लोगो पर आपत्ति, लगाया ‘ये’ आरोप

गोवा में होने वाले ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से पहले कांग्रेस ने यह कहते हुए सम्मेलन के लोगो पर अपनी आपत्ति प्रकट की है कि यह बीजेपी के चुनाव चिन्ह की तरह है. वहीं आम आदमी पार्टी (AAP) ने लोगो में सम्मेलन स्थल का जिक्र नहीं होने को लेकर सवाल उठाया है.

कांग्रेस सांसद शंताराम नाइक ने बुधवार को संवाददाताओं को बताया, ‘जब यह सर्वविदित है कि कमल बीजेपी का चुनाव चिन्ह है, ऐसे में ब्रिक्स समिति द्वारा एक सदस्य देश भारत का चुनाव चिन्ह अपनाया जाना बहुत अनुचित है. फरवरी, 2017 में गोवा में चुनाव होने हैं. उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और मणिपुर में भी अगले साल चुनाव होने है.’

कांग्रेस नेता ने भारत के चुनाव आयोग के समक्ष याचिका दायर कर बीजेपी के चुनाव चिन्ह के इस्तेमाल पर रोक लगाने की भी मांग की है. उनका आरोप है कि पार्टी ने चुनाव चिन्ह संबंधी साल 1968 के आदेश के खिलाफ जाकर उसका दुरुपयोग किया है.

इसी बीच आप के प्रवक्ता रूपेश शिंकरे ने जानना चाहा कि लोगो में गोवा का जिक्र क्यों नहीं है, जबकि पहले के ब्रिक्स शिखर सम्मेलनों के लोगो में मेजबान स्थलों का नाम अंकित किया जाता रहा है. नाइक के बयान पर गोवा के मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर ने कहा कि यह अच्छा है कि नाइक को गोवा में हर जगह कमल नजर आ रहा है.

हालांकि बीजेपी नेता और दक्षिणी गोवा से सांसद नरेंद्र सवैकर ने ट्वीट कर कहा, ‘लोगो चुनाव चिन्ह का विकल्प नहीं है. कांग्रेस को हर चीज में प्रचार नजर आता है.’ गोवा में 15 और 16 अक्टूबर को ब्रिक्स शिखर सम्मेलन का आयोजन होना है.