कैलाश खेर के कार्यक्रमों को लेकर बीजेपी और अपने ही पूर्व साथियों के निशाने पर मुख्यमंत्री हरीश रावत

हरीश रावत सरकार द्वारा कराए जा रहे कैलाश खेर के कार्यक्रमों को लेकर विपक्षी बीजेपी ने राज्य सरकार को आरोपों के कठघरे में खड़ा किया है. बीजेपी का कहना है कि भले आपदाप्रभावित क्षेत्रों में आज भी हालात न सुधर पाए हों, लेकिन आपदा प्रभावितों के लिए आई राशी को राज्य सरकार अपने प्रचार में लुटा रही है.

कांग्रेस से बगावत करके बीजेपी में आए वरिष्ठ नेता हरक सिंह रावत का कहना है कि सत्ता में आते ही बीजेपी इसपर जांच बिठाएगी और कोशिश करेगी कि इसमें कानूनी कार्रवाई भी की जाए.

कैलाश खेर के कार्यक्रमों को लेकर बीजेपी ने राज्य सरकार के खिलाफ चौतरफा मोर्चा खोल दिया है. कांग्रेस से बगावत करके बीजेपी में आए एक अन्य नेता उमेश शर्मा काऊ की माने तो आपदा प्रभावित क्षेत्रों में हालात अभी तक भी नहीं सुधरे हैं. खासतौर से बात केदारनाथ क्षेत्र की की जाए, तो कई जगहों पर अभी तक भी संपर्क मार्गों की हालत ठीक नहीं हैं. पुल नहीं बने हैं और लोगों को जान जोखिम में डाल नदी-नाले पार करने पड़ रहे हैं. यही नहीं लोगों को मुआवजा तक नहीं मिल पाया है. ऐसे में इस तरह के कार्यक्रमों पर करोडों रुपये खर्च करना सवाल खड़े करता है.

बीजेपी नेता हरक सिंह रावत ने तो इस मामले की जांच तक करवाने की बात कही है. हरक सिंह रावत का कहना है कि आपदा के पैसे का दुरुपयोग नहीं होना चाहिए, यह ठीक नहीं है. हरक सिंह रावत की मानें तो आज भी प्रभावित क्षेत्रों के हालात नहीं सुधर पाए हैं. भवन से लेकर स्कूल, सड़क, पुल-पुलिया निर्माण कुछ भी नहीं हो सका है. ऐसे में सरकार द्वारा यूं करोडों रुपये अपने प्रचार पर खर्च करना जांच का विषय है.