पीओके में हुई सर्जिकल स्टाइक का राजनीतिकरण कर रही है बीजेपी : कांग्रेस

गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर-फाइल फोटो

कांग्रेस ने केंद्रीय रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर को पत्र लिखकर भारतीय सेना द्वारा पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में आतंकवादी शिविरों पर किए गए सर्जिकल स्ट्राइक का बीजेपी द्वारा राजनीतिकरण करने पर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है. उन्होंने पूछा कि क्या यह ऑपरेशन बीजेपी और उसके अनुषांगिक संगठनों ने करवाया और अगर यह उरी हमले से पहले किया जाता तो 18 सैनिकों की शहादत से बचा जा सकता था.

देश की रक्षा में उत्तराखंड के युवाओं के योगदान का जिक्र करते हुए उत्तराखंड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि बीजेपी द्वारा देश व उत्तराखंड में बनाया जा रहा वातावरण अत्यंत चिंताजनक है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस को रक्षा सेनाओं के मामले में कटघरे में खड़ा किया जा रहा है और तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जा रहा है, जबकि उसने हमेशा सेनाओं का सम्मान किया.

उन्होंने कहा, देश एवं उत्तराखंड का जनमानस आज आपसे जानना चाहता है कि क्या यह सर्जिकल स्ट्राइक उरी घटना से पहले नहीं हो सकती थी? यदि उससे पहले सर्जिकल स्ट्राइक होती तो हमारे 19 सैनिक शहीद होने से बच सकते थे? क्या बीजेपी और उसके अनुषांगिक संगठनों ने इस सर्जिकल स्ट्राइक को सम्पन्न करवाया? उन्होंने कहा कि बीजेपी नेताओं के पास पूरे देश में श्रेय लेने और अपने गलों में हार पहनने की होड़ मची हुई है, और आप स्वयं भी इस तरह के कार्यक्रमों की शोभा बढ़ा रहे हैं, लेकिन न तो हमारे प्रधानमंत्री और न ही आपको उन परिवारों की सुध लेने का समय है, जिन्होंने उरी की घटना में अपने परिजनों को खोया है.

उपाध्याय ने कहा कि देश में इससे पहले भी इस प्रकार के कई सर्जिकल स्ट्राइक हुए, लेकिन उनका इस प्रकार राजनीतिकरण और प्रचार-प्रसार नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि 1965 के युद्घ में किसानों और जवानों के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाले प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी तथा 1971 के युद्घ में मिली भारी जीत के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी जी ने देश में कहीं भी क्या इस तरह के पोस्टर लगाए, जिस तरह के पोस्टर भारतीय जनता पार्टी देशभर में लगा रही है.