आईटीआई कॉलेजों में ग्रामीण क्षेत्रों में आजीविका से जुड़े पाठ्यक्रम होंगे शुरू

उत्तराखंड के आईटीआई कॉलेजों में ग्रामीण स्तर पर आजीविका से जुड़े पाठ्यक्रमों को शामिल करने की कवायद शुरू हो गई है. इसके तहत आईटीआई कॉलेजों में दूध व डेयरी, जड़ी-बूटी और पशुपालन से संबधित नई ट्रेड खोलने के लिए होमवर्क किया जा रहा है.

औद्योगिक प्रशिक्षण मंत्री हरीश चंद्र दुर्गापाल का कहना है कि उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में इनसे स्वरोजगार के अवसर बढेंगे. इसलिए उन्होंने आईटीआई पाठयक्रम को रोजगारपरक बनाने के लिए विभागीय अफसरों को निर्देश दिए हैं.

इससे आईटीआई कॉलेजों में दूध और डेयरी, जड़ी-बूटी एवं पशुपालन सरीखी ट्रेड शुरू करके दूरस्थ इलाकों में आजीविका की संभानाएं बढ़ सकें.

इसके अलावा दुर्गापाल ने विभागीय समीक्षा के दौरान अफसरों को आईटीआई कॉलेजों में शिक्षकों के पद भरने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि विभिन्न कॉलेजों में प्रिंसिपल और अनुदेशकों के पदों के खाली रहने से पठन और पाठन प्रभावित हो रहा है.

उनका कहना है कि प्रिंसिपल की भर्ती प्रक्रिया शुरू की जा रही है, ताकि उत्तराखंड के औदयोगिक प्रशिक्षण संस्थान के छात्रों को गुणवत्तापरक शिक्षा मिल सके.