लैंसडौन : घूसखोर सिविल क्लर्क के खेत से सीबीआई ने बरामद किए 54 लाख रुपये

अस्थायी राजधानी देहरादून से आई सीबीआई की टीम ने लैंसडौन में गढ़वाल राइफल में कार्यरत एक सिविल क्लर्क को चार लाख रुपये की घूस लेते रंगे हाथों दबोचा है. अब इस क्लर्क के पास लाखों रुपये की नकदी और करोडों रुपये की सम्पति का पता चला है. आरोपी कलर्क ने 54 लाख रुपये तो खेत में ही छुपाकर रखे हुए थे. सीबीआई की इस कार्रवाई के बाद से ही गढ़वाल राइफल के मुख्यालय में हड़कंप मचा हुआ है.

दरअसल अरोपी क्लर्क सेना के एक रिटायर्ड जवान से उसकी पेंशन और एरियर का भुगतान कराने के बदले 4 लाख रुपये की मांग कर रहा था. जब जवान को कोई रास्ता नहीं दिखा तो उसने सिविल क्लर्क की शिकायत सीबीआई में कर दी. सीबीआई की टीम ने लैंसडौन स्थित गढ़वाल राइफल मुख्यालय में सिविल क्लर्क प्रताप सिंह को रंगे हाथों घूस लेते हुए गिरफ्तार कर लिया.

सीबीआई ने जब आरोपी क्लर्क से कड़ी पूछताछ की तो उसकी निशानदेही पर खेतों में छुपाकर रखी गई 54 लाख रुपये की धनराशि भी सीबीआई की टीम ने बरामद की. इसके अलावा सिविल क्लर्क के पास से अस्थायी राजधानी देहरादून और दूसरे स्थानों पर करोंड़ो की सम्पति के कागजात भी बरामद किए गए हैं. आरोपी कलर्क प्रताप सिंह को सीबीआई की टीम गिरफ्तार कर देहरादून ले गई.

उधर दूसरी ओर सीबीआई टीम की गुपचुप तरीके से हुई इस पूरी कार्रवाई के बाद लैंसडौन में हड़कंप मचा हुआ है. कोई भी सेना का अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहा है. गढवाल राइफल रेजीमेंट के इतिहास में हुई अपनी तरह की इस पहली घटना से यहां सभी हक्के-बक्के हैं.