‘बेटी बचाओ सशक्त बनाओ’ जागरुकता अभियान के तहत निकली शोभायात्रा

बेटी बचाओ सशक्त बनाओ अभियान के तहत हल्द्वानी के एक बैंकेट हाॅल में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया. कार्यक्रम का समापन अध्यक्ष जिला पंचायत सुमित्रा प्रसाद, मेयर डॉ. जोगेन्दर पाल सिह रौतेला ने दीप प्रज्वलित कर किया.

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अध्यक्ष जिला पंचायत सुमित्रा प्रसाद ने कहा कि बिना बेटियों के जीवन अधूरा है, मानव जीवन की सम्पूर्णता ही बेटियों से होती है. उन्होंने कहा कि सरकार ने कानून अवश्य बनाए हैं, परन्तु समाज में नारी के सम्मान एवं गौरव को पुनः प्रतिस्थापित करने के लिए जागृति लाना आवश्यक है. वर्तमान में शिक्षित नारी ने सभी क्षेत्रों में अपनी योग्यता को सिद्ध किया है. वह अपने अधिकारों के प्रति जागरुक भी हुई है और समाज के विकास में अपना योगदान दे रही है. महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए समाज में जागृति लाना आवश्यक है.

अपने सम्बोधन में मेयर जोगेन्द्रपाल सिंह रौतेला ने कहा कि आदिकाल से ही हमारे भारतवर्ष में नारी को सम्मानीय व पुरुष से भी उत्तम दर्जा दिया जाता रहा है, तभी तो गायन में भी पहले राधा, फिर कृष्ण, श्री लक्ष्मी-नारायण, सीता-राम आदि का नाम आता है. आदिकाल में स्त्री-पुरुष को समान अधिकार थे. शासक हो या प्रजा दोनों ही जगह नारी को पूजनीय व घर की लक्ष्मी समझते थे. पुरुष प्रधान समाज में नारी का तेजी से अधोपतन होने लगा. सरकारी कठोर कानूनों के बावजूद भी भ्रूण का पता कर बेटियों को पैदा होने से पूर्व ही मार दिया जाता है, जबकि पुरुष यह भी जानता है कि उसको जन्म देने वाली भी एक माता ही है.

समाज में अनेक कुरीतियां दहेज प्रथा, बाल विवाह, पर्दा प्रथा, सती प्रथा आदि से नारी का अधिक शोषण होने लगा. आज भ्रूण हत्या के कारण लिंगानुपात असंतुलित होता जा रहा है। ऐसे में प्रत्येक नागरिक को जानना व समझना होगा कि वे नारी का सम्मान करें, उसको आगे बढ़ने हेतु प्रतोत्साहित करें.

बेटी बचाओ सशक्त बनाओ जागरुकता हेतु मुखानी चैराहा से शोभायात्रा भी निकालकर लोगों को जागरुक किया गया. कार्यक्रम में मोहन चौबे, नीता, पारुल, राखी, बीके मनोरमा, अनुष्का, दीपा, उप निदेशक सूचना योगेश मिश्रा सहित बड़ी संख्या में गणमान्य लोग मौजूद थे. कार्यक्रम का संचालन पार्वती ने किया.