हजारीबाग में पुलिस और जमीन मालिकों में हिंसक झड़प, तीन लोगो की मोत

झारखंड में हजारीबाग के बड़कागांव में शनिवार को एनटीपीसी के खिलाफ कफन सत्याग्रह के दौरान पुलिस व रैय्यत (जमीन मालिकों) के बीच हिंसक संघर्ष हो गया. इस झड़प में तीन लोगों की जहां मौत हो गई, वहीं कई ग्रामीण और एएसपी समेत कई पुलिस जवान घायल हो गए.

पूरा मामला एनटीपीसी के खनन कार्य से जुड़ा है. स्थानीय रैय्यत जमीन के मुआवजा को लेकर 15 सितंबर से हजारीबाग के बड़कागांव में कफन सत्याग्रह आन्दोलन पर हैं.

शनिवार सुबह करीब साढ़े चार बजे सत्याग्रह पर बैठी विधायक निर्मला देवी को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. रैय्यतों को जब इसकी जानकारी मिली तो वे आक्रोशित हो गए. ढाढ़ी गांव के पास पुलिस को घेर लिया.

पुलिस और रैय्यतों के बीच हिंसक झड़प हुई जिसमें सात पुलिस कर्मी घायल हुए. एसपी कुलदीप भी घायल हुए. इसके बाद पुलिस ने ग्रामीणों पर गोली चलाई जिसमें तीन ग्रामीणों की मौत की खबर है.

प्रशासन की तरफ से दो की मौत की पुष्टि हुई है. एसपी भीमसेन टूटी ने बताया कि झड़प के बाद बाद ग्रामीण पुलिस वैन से छुड़ा कर विधायक को साथ ले गए.घायलों का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है.

फिलहाल इलाके में तनाव का माहौल है. हालांकि स्थिति नियंत्रण में है. भारी संख्या में पुलिस बल तैनात हैं ताकि फिर से कोई अप्रिय घटना नहीं हो.