टिहरी झील में आखिरकार एक साल बाद शुरू हो गई मालवाहक नाव की सेवा

टिहरी झील में जंग खा रही करोड़ों की बोट का आखिरकार टाडा ने व्यावसायिक संचालन शुरू कर दिया है. पर्यटन मंत्री के प्रतिनिधि के रूप में बलवीर नेगी और टाडा के अधिकारियों ने शुनिवार को बार्ज बोट को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

टिहरी झील से सटे आसपास के गांवों में सामान लाने-ले जाने और वाहनों को ले जाने के लिए पर्यटन विभाग द्वारा यूपी निर्माण निगम से करीब दो करोड़ की लागत से पिछले साल बार्ज बोट का निर्माण कराया गया था.

लेकिन बाहरी संस्था और टेंडरों के जरिए भी किसी ने बार्ज बोट के संचालन के लिए आवेदन नहीं किया, जिसके चलते करीब एक साल से करोड़ों की बार्ज बोट झील में खड़ी थी और जंग खा रही थी.

टिहरी झील विशेष क्षेत्र पर्यटन विकास प्राधिकरण ने आखिरकार स्वंय के संसाधनों से बार्ज बोट को चलाने का निर्णय लिया और शनिवार से बार्ज का व्यवसायिक संचालन शुरू किया गया है.

मालवाहक नाव बार्ज बोट में करीब 10 क्विंटल तक सामान झील के आरपार ले जाया जा सकता है, जिसमें वाहनों के साथ-साथ दूसरे सामान को भी झील के आरपार ढोया जाएगा, जिसके लिए टाडा द्वारा 50 रुपये प्रति क्विंटल और दूरी के हिसाब से दर तय की गई है.